Force 2 फिल्म समीक्षा

Force 2 एक RAW Agents के उपर सोनक्शआधारित कहानी है । इस फिल्म मे मुख्य भुमिका John Abraham और Sonakshi Sinha द्वारा निभाई गई है ।फिल्म क निर्देशन डायरेक्टर Abhinay Deo द्वारा किया गया है । यह फिल्म 2011 में बनी फिल्म force का sequel है । फिल्म 18 नवंबर को सिनेमा घरो मे आ गई।

 
कहानी शुरु होती है ACP यश्वर्धन (John Abraham ) से जो की crime के खिलाफ लड़ने के लिए पूरी तरह से तत्पर है , अपनी इस लडाई मे उन्होने अपनी पत्नी माया को भी खो दिया । तभी उन्हे 3 RAW एजेंट्स के मारे जाने की खबर मिलती है, जिसमें से एक उसका करीबी मित्र होता है हरीश । हरीश मरते समय यश के लिए एक सबूत छोड जाता है की Budapest Embassy मे कोई RAW की टीम को नष्ट कर देना चाह्ता है । यश ये सारी बात IB के DIRECTOR और RAW HEAD अंजान को बताता है । 
 
फिर अंजान के निर्देश अनुसार Budapest KK ( Sonakshi Sinha ) RAW agent के साथ जाने के लिए तैयार हो जाता है । जैसे ही वो दोनो Budapest Safehouse पहुँचते है तो बम्ब धमाके से स्वागत होने पर उन्हे इस बात का एह्सास होत है की कोई Budapest embassy से RAW की सारी जानकारी कोई लिक कर रहा है । बाड़ मैं यश और केके को पता चलता है की इस सब के पीछे एक RAW एजेंट के बेटे Rudra Pratap Singh का हाथ है जो की Shiv के नाम से रेह रहा है , जब्की शिव नाम का आद्मी 10 साल पहले मर चुका होता है । असल मे Rudra अपने पिता का बद्ला लेना चाह्ता था मंत्री ब्रिजेश यादव से । क्युंकि जब उसके पिता दुश्मनो द्वारा मारे गये तो RAW ने उन्हे पेह्चान्ने से इंकार कर दिया था और उन्हे गेर भारतीय घोषित कर दिया गया था । इसी सद्मे के कारण Rudra की माँ ने आत्म्हत्या कर ली । 
 
यह सब जानने के बाद यश को समझ आया की Rudra RAW से नही बल्कि ब्रिजेश से बद्ला लेना चाहता था क्युंकि उसके ही निर्देश अनुसार Rudra के पिता को सम्मान नही मिल पाया था । Rudra ब्रिजेश के सारे गार्ड को मारकर उसे मारने की कोशिश करता है पर KK उसे ऐसा कर्ने से रोक देती है । फिर यश ब्रिजेश को मज़बूर करता है मीडिया के सामने RAW agents की इज्जत वापिस दिलाने को । फिर ब्रिजेश ऐसा ही करता है और RAW agents के सम्मान को वापिस दिलाता है ।
यह मूवी यही संदेश देना चाहती है की जो RAW agents भारत की रक्षा करते हुए मारे गये उन्हे भी शहीद का दर्जा दिया जाना चाहीए और उन्हे भी उतना ही सम्मान मिलना चाहीए जितना की एक सैनिक को मिलता है ।

 

कुल मिला के फिल्म काफी अच्छे तरीके से निर्देशित की गयी है , एक बेह्तेरिन ACTION फिल्म मानी जा सकती है ।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.