बोत्सवाना: सरकार ने 60 हाथियों को मारने का दिया आदेश, जारी किए 6 लाइसेंस

0
58



गबारोनी। बीते दिनों ऑस्ट्रेलिया ( Australia ) में करीब 1000 ऊंटों ( Camel ) को गोली मारने के आदेश दिए गए थे, जिसको लेकर पूरी दुनिया में इसकी आलोचना हुई। अब एक बार फिर से ऐसा ही कुछ अफ्रीका में देखने को मिल सकता है, जो कि बहुत ही शर्मनाक है।

दरअसल, अफ्रीकी देश बोत्सवाना ( Botswana ) की सरकार ने 60 हाथियों ( Elephants ) को मारने के लिए प्लान बनाया है। इसके लिए बकायदा 6 लाइसेंस भी जारी किए हैं। मारे जाने वाले हर हाथी की कीमत भी लगाई जाएगी और यह कीमत हाथी मारने वाली संस्था या एजेंसी से ली जाएगी।

हाथी और महावत की दोस्ती बनी मिसाल, एक ही थाली से खाना खाते वीडियो वायरल

लाइसेंस के लिए बकायदा नीलामी प्रक्रिया का आयोजन किया गया। इसमें 60 हाथियों को मारने का आदेश दिया गया है। सरकार की ओर से कहा गया है कि देश में हाथियों की बढ़ती जनसंख्या को कंट्रोल करने के लिए यह प्लान बनाया है।

बता दें कि दुनिया में सबसे ज्यादा हाथियों की संख्या इस देश (बोत्सवाना) में है। यहां मौजूदा समय में करीब 1.30 लाख हाथी हैं।

सरकार को 18.60 करोड़ को होगा फायदा

आपको बता दें कि सरकार की ओर से जो 6 लाइसेंस जारी किए गए हैं उसमें लिखा है कि हर हाथी की कीमत 31 लाख रुपये हैं। यानी कि जो भी संस्था या ऐजेंसी हाथियों को मारेगा उसके बदले में इतने रुपये जमा करने होंगे। क्योंकि एजेंसी वे इन हाथियों को मारने के बाद इसके अंगों को बेचकर पैसे कमाएंगे। हाथियों को मारने से सरकार को 18.60 करोड़ रुपये का फायदा होगा।

बोत्सवाना के राष्ट्रपति मोकवित्सी मसिसी ( President Mokgweetsi Masisi ) ने कहा कि उनकी सरकार ने हाथियों को मारने का पांच साल पुराना आदेश वापस ले लिया है। क्योंकि बोत्सवाना में हाथियों की आबादी बहुत ज्यादा बढ़ गई है।

इन्फ्रासोनिक ध्वनि संकेतों के जरिए बातचीत करते हैं हाथी

बोत्सवाना में 1990 में हाथियों की संख्या 80 हजार थी, जो कि अब बढ़कर 1.30 लाख हो गई है। हाथी लगातार जंगल से निकलकर इंसानी बस्तियों में घुस रहे हैं काफी नुकसान पहुंचा रहे हैं। कई बार तो लोगों को भी जान से मार देते हैं। इसलिए60 हाथियों को मारने का आदेश दिया है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here