3 Types Of Corona Caused Massive Destruction In World: Research – Coronavirus: रिसर्च में हुआ बड़ा खुलासा, 3 प्रकार के कोरोना से दुनिया में मची है भारी तबाही

0
47


वाशिंगटन। कोरोना वायरस ( Coronavirus ) महामारी से दुनियाभर में हाहाकार मचा है और अब तक करीब एक लाख लोगों की जान जा चुकी है, वहीं 15 लाख के करीब लोग संक्रमित हैं और इसके बढ़ने का सिलसिला लगातार तेजी के साथ जारी है। ऐसे में कोरोना वायरस को लेकर एक नई बात सामने आई है, जो बहुत ही चौंकाने वाला है।

दरअसल, एक शोध में ये बात सामने आई है कि पूरी दुनिया में एक नहीं बल्कि तीन तरह के कोरोना वायरस कहर बरपा रहे हैं। इसे टाइप ए, टाइप बी और टाइप सी कैटेगरी में रखा गया है। शोध में इस बात का खुलासा किया गया है कि अमरीका के न्‍यूयॉर्क में कोरोना वायरस के जिस प्रकार ने कोहराम मचाया हुआ है वह यूरोप से आई है।

Coronavirus: सोनिया गांधी ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्षों से कहा- लगता है कि अब और मुश्किलें बढ़ेंगी

वहीं अमरीका के दूसरे हिस्सों में पश्चिम चीन से आई कोरोना की नस्‍ल ने कोहराम मचाया हुआ है। कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों के मुताबिक, पूरी दुनिया में कोरोना के ये तीन प्रकार कहर बरपा रहे हैं। बता दें कि यह शोध अमरीका के माउंट सिनाई अस्‍पताल के जीनोम पर आधारित है।

ये हैं तीन प्रकार के वायरस

डेली मेल की खबर के मुताबिक, शोधकर्ताओं का मानना है कि यह वायरस पहले चमगादड़ से पैंगोलिन जैसे किसी जानवर में फैला था। उसके बाद धीरे-धीरे मीट मार्केट से होता हुआ चीन का वुहान शहर पहुंचा और फिर इंसानों में पहुंच गया।

इस तरह से फैले वायरस को शोधकर्ताओं ने कोरोना वायरस ‘टाइप ए’ करार दिया है। दावा किया गया है कि यह वायरस, चीन में ज्यादा दिन तक नहीं रहा। इंसाने के माध्यम से ये जापान, आस्‍ट्रेलिया और अमरीका समेत कई देशों में पहुंचा। इस वायरस के फैलने की शुरुआत क्रिसमस के आसपास हुई है।

‘सितंबर में चरम पर पहुंचेगा coronavirus s, आधी से ज्यादा आबादी हो सकती है संक्रमित’

शोधकर्ताओं ने आगे दावा किया है कि टाइप बी वायरस ‘टाइप ए’ का ही बदला हुआ रूप है, जिसकी वजह से चीन में हजारों लोगों की मौत हुई है। टाइप बी वायरस यूरोप, दक्षिण अमरीका और कनाडा तक पहुंचा। इसमें कुछ यूरोपीय देशों व अमरीका में ज्यादा तबाही मचाई है।

इसके बाद कोरोना का तीसरा प्रकार टाइप सी है। इससे सिंगापुर, इटली और हांगकांग जैसे देशों में हजारों की जान ली है। शोधकर्ताओं का दावा है कि अमरीका में अधिकतर लोग टाइप ए वायरस से संक्रमित हैं।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here