8 Tablighi Jamaat Members From Malaysia Arrested At Delhi IGI – इंडिया से भागने की फिराक में थे जमात में शामिल 8 मलेशियाई, दिल्ली हवाई अड्डे पर दबौचे गए

0
16


नई दिल्ली। निजामुद्दीन के तबलीगी जमात ( Tablighi Jamaat ) के कार्यक्रम में शामिल हुए आठ लोगों को इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे ( IGI ) पर आठ लोगों को हिरासत में लिया गया है।

यह सभी विदेशी मूल के हैं। पता चला है इन सभी का संबंध तबलीगी जमात से है। यह लोग चुपचाप अपने देश भागने की तैयारी में थे।

पकड़े गये सभी 8 लोग मलेशिया के मूल निवासी बताये जा रहे हैं।

दिल्ली पुलिस अपराध शाखा ( Delhi Police Crime Branch ) सूत्रों के मुताबिक, इन सबसे पूछताछ के बाद फिलहाल कोरोना संक्रमण ( coronavirus ) जांच के लिए क्वारेंटीन कर दिया गया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने आखिर सोनिया गांधी को क्यो किया फोन? क्या कोरोना पर बड़ा कदम उठाने की तैयारी में सरकार?

 

c1_1.png

आपको बता दें किे दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के कार्यक्रम में पिछले महीने हजारों लोगों ने भाग लिया था।

इस कार्यक्रम में भारत समेत 16 देशों के लोग शामिल हुए थे। इन लोगों में इतनी बड़ी तदाद में कोरोना संक्रमित पाए गए हैं कि इन कुल संख्या भारत में पाए गए कुछ मरीजों का तीस प्रतिशत है।

वहीं, देश में एक के बाद एक तबलीगी जमातियों के जमघट का भंडाफोड़ रोजाना हो रहा है।

शनिवार देर रात पता चला कि दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में पुलिस ने 15 और तब्लीगी जमातियों को दबोच लिया।

कोविड—19: वैज्ञानिकों को मिली बड़ी सफलता, संक्रमण के लक्षण दिखने से पहले जाने कैसे चलेगा मरीज का पता?

 

पकड़े गए जमातियों में 5 महिलाओं सहित 10 विदेशी (इंडोनेशियाई) और 5 भारतीय तब्लीगी जमाती हैं। इन सभी को फिलहाल पुलिस ने क्वारंटाइन होम में रखा है।

यह सब स्थानीय मौलवियों की मदद से मस्जिद और मदरसों में भरे मिले हैं। इस पूरे भंडाफोड़ की पुष्टि आईएएनएस से शनिवार देर रात बातचीत करते हुए गाजियाबाद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने की है।

COVID-19: वैज्ञानिकों ने ढूंढ ली कोरोना की काट, ऐंटी-पैरासाइट दवा ने लैब में वायरस को किया खत्म

COVID-19: मरकज से आए लोगों के कारण 2 दिन बाद राजधानी दिल्ली में बढ़ेंगे कोरोना के रोगी

एसएसपी के मुताबिक, “साहिबाबाद थाना पुलिस को शनिवार को इन जमातियों के छिपे होने की सूचना मिली थई। सूचना यह भी थी कि, जमातियों में कुछ विदेशी भी हो सकते हैं।

साथ ही इनमें से अधिकांश निजामुद्दीन मरकज तब्लीगी जमात भी गए थे। सूचना को पहले गुपचुप तरीके से पुष्ट कराया गया।

उसके बाद इन जमातियों के जमघट वाले अड्डे पर सब-इंस्पेक्टर सुरेंद्र सिंह, प्रवेंद्र सिंह, हवलदार राजवीर सिंह, सिपाही सूर्यकांत की टीमें बनाई गईं।”


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here