About Half Of Students In Fifth Grade Do Not Know English – पाकिस्तान में शिक्षा व्यवस्था का बुरा हाल, पांचवीं कक्षा के करीब आधे छात्रों को नहीं आती है अंग्रेजी

0
21


59 प्रतिशत छात्र उर्दू और सिंधी और पश्तो सहित अन्य स्थानीय भाषाओं में कहानियां पढ़ते हैं।

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के ग्रामीण इलाकों में पांचवीं कक्षा में पढ़ने वाले करीब 45 फीसदी बच्चे कक्षा दूसरी के छात्रों की अंग्रेजी नहीं पढ़ सकते हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार यह खुलासा हुआ है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक,एनुअल स्टेट्स ऑफ एडुकेशन रिपोर्ट (एएसईआर)को शिक्षा मंत्री शफकत महमूद व योजना मंत्रालय के उप चेयरमैन मोहम्मद जेहानजेब खान ने शुरू किया।

वर्ष 2019 की रिपोर्ट में एएसईआर ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में पांचवीं कक्षा के केवल 59 प्रतिशत छात्र उर्दू और सिंधी और पश्तो सहित अन्य स्थानीय भाषाओं में कहानियां पढ़ते हैं, जो दूसरी कक्षा के पाठ्यक्रम में शामिल हैं।

इसके अलावा सिर्फ पांचवीं कक्षा के 57 प्रतिशत छात्र, कक्षा दो के छात्रों के दो अंकों की भाग के सवाल को हल कर सकते हैं। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि पांचवीं कक्षा के 60 फीसदी छात्र समय ठीक से बता सकते हैं और जोड़ के सवाल हल कर सकते हैं।

सिर्फ 53 फीसदी छात्रों को ही गुणा आता है

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार निजी क्षेत्र के स्कूलों में नामांकित छात्र बेहतर नतीजे दे रहे हैं। इसमें छात्र,छात्राओं को पीछे छोड़ रहे हैं। रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि निजी क्षेत्र के स्कूल बेहतर हैं। वह सरकारी या पब्लिक सेक्टर की संस्थाओं से ज्यादा सुविधाएं देते हैं। स्कूलों में काम कर रहे शौचालयों को लेकर भारी अंतर पाया गया है। 59 फीसदी सरकारी स्कूलों की तुलना में 89 फीसदी निजी सेक्टर के स्कूलों में बाथरूम बेहतर हालत में हैं।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here