Antarctic Temperature Rises Above 20c For First Time On Record – अंटार्कटिका में पहली बार 20 डिग्री पहुंचा तापमान, 50 साल में 3 डिग्री की बढ़ोतरी, टूटा रिकॉर्ड

0
16


ख़बर सुनें

जलवायु परिवर्तन पर अंतहीन बहसों के बीच अंटार्कटिका में गर्मी का रिकॉर्ड टूट गया। शोधकर्ताओं ने महाद्वीप के सेमूर द्वीप पर 20.75 डिग्री तापमान दर्ज किया। ऐसा पहली बार है जब दक्षिण ध्रुव में पारा 20 डिग्री पार कर गया है। यह तापमान 9 फरवरी को सेमूर निगरानी केंद्र पर मापा गया था। इससे पहले साइनी द्वीप पर जनवरी 1982 में 19.8 डिग्री तापमान दर्ज किया गया था।

ब्राजीलियाई शोधकर्ता कार्लोस शिफर ने कहा, हमने अंटार्कटिका में इतना ज्यादा तापमान कभी नहीं देखा। इसे धरती के गर्म होने को लेकर चेतावनी के रूप में देखा जाना चाहिए। उन्होंने बताया कि पिछले हफ्ते भी अंटार्कटिका के पेनिनसुला द्वीप पर 18.3 डिग्री तापमान दर्ज किया गया था। 

ये द्वीप महाद्वीप के सबसे उत्तरी इलाके हैं। हालांकि शिफर ने कहा कि रिकॉर्ड तापमान किसी अध्ययन का हिस्सा नहीं है। इसलिए इसका उपयोग किसी भविष्यवाणी के लिए नहीं किया जाएगा। वह बोले, हम कई द्वीपों पर वॉर्मिंग ट्रेंड्स देख रहे हैं। साउथ शेटलैंड आइलैंड और जेम्स रॉस द्वीपों में 20 सालों में तापमान में काफी उतार-चढ़ाव देखा गया है।

50 साल में 3 डिग्री की बढ़ोतरी

विश्व मौसम संगठन के मुताबिक, पिछले 50 सालों में अंटार्कटिका पर तापमान में लगभग 3 डिग्री की वृद्धि हुई है। जबकि इसके पश्चिमी तट के लगभग 87 फीसदी ग्लेशियर पीछे चले गए हैं। पिछले 12 सालों में ग्लेशियरों का जलवायु परिवर्तन के कारण ‘तेजी से पीछे हटते’ देखा गया है। पिछला महीना भी अंटार्कटिका का सबसे गर्म जनवरी था।

सार

ऐसा पहली बार है जब दक्षिण ध्रुव में पारा 20 डिग्री पार कर गया है। यह तापमान 9 फरवरी को सेमूर निगरानी केंद्र पर मापा गया था। इससे पहले साइनी द्वीप पर जनवरी 1982 में 19.8 डिग्री तापमान दर्ज किया गया था।

विस्तार

जलवायु परिवर्तन पर अंतहीन बहसों के बीच अंटार्कटिका में गर्मी का रिकॉर्ड टूट गया। शोधकर्ताओं ने महाद्वीप के सेमूर द्वीप पर 20.75 डिग्री तापमान दर्ज किया। ऐसा पहली बार है जब दक्षिण ध्रुव में पारा 20 डिग्री पार कर गया है। यह तापमान 9 फरवरी को सेमूर निगरानी केंद्र पर मापा गया था। इससे पहले साइनी द्वीप पर जनवरी 1982 में 19.8 डिग्री तापमान दर्ज किया गया था।

ब्राजीलियाई शोधकर्ता कार्लोस शिफर ने कहा, हमने अंटार्कटिका में इतना ज्यादा तापमान कभी नहीं देखा। इसे धरती के गर्म होने को लेकर चेतावनी के रूप में देखा जाना चाहिए। उन्होंने बताया कि पिछले हफ्ते भी अंटार्कटिका के पेनिनसुला द्वीप पर 18.3 डिग्री तापमान दर्ज किया गया था। 

ये द्वीप महाद्वीप के सबसे उत्तरी इलाके हैं। हालांकि शिफर ने कहा कि रिकॉर्ड तापमान किसी अध्ययन का हिस्सा नहीं है। इसलिए इसका उपयोग किसी भविष्यवाणी के लिए नहीं किया जाएगा। वह बोले, हम कई द्वीपों पर वॉर्मिंग ट्रेंड्स देख रहे हैं। साउथ शेटलैंड आइलैंड और जेम्स रॉस द्वीपों में 20 सालों में तापमान में काफी उतार-चढ़ाव देखा गया है।

50 साल में 3 डिग्री की बढ़ोतरी

विश्व मौसम संगठन के मुताबिक, पिछले 50 सालों में अंटार्कटिका पर तापमान में लगभग 3 डिग्री की वृद्धि हुई है। जबकि इसके पश्चिमी तट के लगभग 87 फीसदी ग्लेशियर पीछे चले गए हैं। पिछले 12 सालों में ग्लेशियरों का जलवायु परिवर्तन के कारण ‘तेजी से पीछे हटते’ देखा गया है। पिछला महीना भी अंटार्कटिका का सबसे गर्म जनवरी था।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here