Auto Sectors Demands Tax Relief in Budget 2020

0
36


खास बातें

  1. दिसंबर 2019 में कारों की ब्रिक्री दिसंबर 2018 के मुकाबले 8.40 प्रतिशत कम
  2. दिसंबर 2019 में स्कूटरों की ब्रिक्री दिसंबर 2018 से 24.52 प्रतिशत कम
  3. मोटसाइकिलों की बिक्री 12.01 प्रतिशत घट गई

नई दिल्ली:

ऑटोमोबाइल सेक्टर ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से बजट में टैक्स में राहत की मांग की है. शुक्रवार को सोसाइटी आफ ऑटोमोबाइल मैन्यूफैक्चरर्स यानी सिएम ने ताजा आंकड़े जारी कर कहा कि आटो सेक्टर में संकट जारी है.  दिसंबर में भी कारों-स्कूटरों और मोटरसाइकिलों की बिक्री पिछले साल के मुक़ाबले गिरी है. सोसाइटी आफ आटोमोबाइल मैन्यूफैक्चरर्स ने ताज़ा आंकड़े जारी कर कहा कि  दिसंबर 2019 में कारों की ब्रिक्री दिसंबर 2018 के मुकाबले 8.40 प्रतिशत कम रही. दिसंबर 2019 में स्कूटरों की ब्रिक्री दिसंबर 2018 के मुकाबले 24.52 फसदी कम रही. इस दौरान मोटसाइकिलों की बिक्री 12.01 प्रतिशत घट गई. सभी तरह की गाड़ियों की बिक्री में कुल गिरावट 13.08 प्रतिशत रही.

टिप्पणियां

अब इस संकट से निपटने के लिए आटो कंपनियों ने वित्त मंत्री से बजट 2020 में टैक्स में राहत की मांग की है. यह आंकड़े जारी करते हुए सोसाइटी आफ आटोमोबाइल मैन्यूफैक्चरर्स के प्रेसिडेंट राजन वधेरा ने कहा, “एक अप्रैल से जब बीएस-4 चालू होगा, वाहनों की कीमत बढ़ेगी. इससे बाजार में मांग घटेगी. हम चाहते हैं कि सरकार जीएसटी कम करे जिससे आटो सेल्स प्रभावित न हो. यही हमारी बजट 2020 से अपेक्षा है.”

हालांकि दिसंबर में कुछ सेगमेन्ट की गाड़ियों की बिक्री में सुधार रिकार्ड किया गया है. कामर्शियल कैरियर कैटगरी में बड़े पैसेंजर कैरियर्स की बिक्री 71 फीसदी बढ़ गई जबकि छोटे कारोबारी वाहन 27.51 फ़ीसदी बढ़ गए.  लेकिन पिछले साल के मुकाबले मौजूदा वित्तीय साल 2019-20 के पहले नौ महीनों में पैसेंजर गाड़ियों की बिक्री 16.40 प्रतिशत घट गई है. इस दौरान कारों की बिक्री 23.59 फीसदी और पैसेंजर वैन्स की बिक्री 37.31 प्रतिशत तक कम रही. अब देखना होगा कि बजट 2020 को अंतिम रूप देने में जुटीं वित्त मंत्री आटो सेक्टर की टैक्स रिलीफ की मांग से कैसे निपटती हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here