Ayurveda, Homeopathy And Unani To Prevent Coronavirus – Coronavirus: आयुर्वेद, होम्योपैथी और यूनानी चिकित्सा से करें कोरोनावायरस से बचाव

0
38


Coronavirus: दुनियाभर में कोरोनावायरस के बढ़ रहे प्रकोप को देखते हुए आयुष मंत्रालय, भारत सरकार के तहत अनुसंधान परिषदों ने भारतीय पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों आयुर्वेद, होम्योपैथी और यूनानी के आधार पर कोरोनावायरस से बचाव की सलाह जारी की है

coronavirus In hindi: दुनियाभर में कोरोनावायरस के बढ़ रहे प्रकोप को देखते हुए आयुष मंत्रालय, भारत सरकार के तहत अनुसंधान परिषदों ने भारतीय पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों आयुर्वेद, होम्योपैथी और यूनानी के आधार पर कोरोनावायरस से बचाव की सलाह जारी की है। जो इस प्रकार है:-

आयुर्वेद के अनुसार
– व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखें।
– साबुन और पानी से अपने हाथों को कम से कम 20 सेकैंड तक धोएं।
– कम से कम 20 सेकंड के लिए अपने हाथों को अक्सर साबुन और पानी से धोएं।
– शदांग पनिया (मुस्ता, परपाट, उशीर, चंदन, उडिच्य़ा और नागर) प्रसंस्कृत पानी (1 लीटर पानी में 10 ग्राम पाउडर डाल कर उबालें, जब तक यह आधा तक कम न हो जाए) पी लें। इसे एक बोतल में स्टोर करें और प्यास लगने पर पिएं।
– बिना धोए हाथों से अपनी आँखें, नाक और मुँह छूने से बचें।
– जो लोग बीमार हैं उनसे निकट संपर्क से बचें।
– बीमार होने पर घर पर रहें।
– खांसी या छींक के दौरान अपना चेहरा ढंक लें और खांसने या छींकने के बाद अपने हाथों को धो लें।
– अक्सर छुई गए वस्तुओं और सतहों को साफ करें।
– संक्रमण से बचने के लिए सार्वजनिक स्थानों पर यात्रा करते समय या काम करते समय एक एन95 मास्क का उपयोग करें।
– यदि आपको कोरोना वायरल संक्रमण का संदेह है, तो मास्क पहनें और तुरंत अपने नजदीकी अस्पताल से संपर्क करें।
– आयुर्वेदिक प्रथाओं के अनुसार रोगनिरोधी उपाय / इम्यूनोमॉड्यूलेटरी ड्रग्स।
– स्वस्थ आहार और जीवन शैली के माध्यम से प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए उपाय किए जाएंगे।
– अगस्त्य हरितकी 5 ग्राम, दिन में दो बार गर्म पानी के साथ।
– शेषमणि वटी 500 मिलीग्राम दिन में दो बार।
– त्रिकटु (पिप्पली, मारीच और शुंठी) पाउडर 5 ग्राम और तुलसी 3-5 पत्तियां (1-लीटर पानी में उबालें, जब तक यह ½ लीटर तक कम नहीं हो जाता है और इसे एक बोतल में रख लें) इसे आवश्यकतानुसार और जब चाहे तब घूंट में लेते रहें।
प्रतिमार्स नास्य : प्रत्येक नथुने में प्रतिदिन सुबह अनु तेल / तिल के तेल की दो बूंदें डालें।

* यह सलाह केवल सूचना के लिए है और इसे केवल पंजीकृत आयुर्वेद चिकित्सकों के परामर्श से अपनाया जाएगा।

होमियोपैथी
होमियोपैथी दवा आर्सेनिकम एल्बम 30 को कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ रोगनिरोधी दवा के रूप में अपनाया जा सकता है, जिसे आईएलआई की रोकथाम के लिए भी सुझाया गया है। आर्सेनिकम एल्बम 30 की एक डोज की सिफारिश की गई है, जो प्रतिदिन खाली पेट में तीन दिनों के लिए इस्तेमाल की जाती है। खुराक को एक महीने के बाद दोहराया जाना चाहिए ताकि समुदाय में प्रबल होने वाले कोरोना वायरस संक्रमण के उसी शेड्यूल का पालन किया जा सके। इसके अलावा विशेषज्ञ समूह ने सलाह दी है कि रोग की रोकथाम के लिए भारत सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा सुझाए स्वास्थ्यकर उपायों का जनता द्वारा पालन किया जाना चाहिए।

कोरोना वायरस के संक्रमण के लक्षण प्रबंधन में उपयोगी यूनानी दवाएं
– शरबतउन्नाब- 10-20 मिली दिन में दो बार।
– तिर्यकअर्बा- 3-5 ग्राम दिन में दो बार।
– तिर्यक नजला- 5 ग्राम दिन में दो बार।
– खमीरा मार्वारिद- 3-5 ग्राम दिन में एक बार।
– स्कैल्प और छाती पर रोगन बाबूना / रोगन मॉम / कफूरी बाम से मालिश करें।
– नथुने में रोगन बनाफशा धीरे लगाएं।
– अर्क अजीब 4-8 बूंद ताजे पानी में लें और दिन में चार बार इस्तेमाल करें।
– बुखार होने की स्थिति में हब ए एकसीर बुखार 2 की गोलियां गुनगुने पानी के साथ दिन में दो बार लें।
– 10 मिली शरबत नाजला 100 मिली गुनगुने पानी में दो बार रोजाना पिएं।
– क़ुरस ए सुआल 2 गोलियों को प्रतिदिन दो बार चबाना चाहिए।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here