China Flare up to Nepali media on Print Mao Tse Tung photo with mask, Nepal gave a befitting reply

0
7


काठमांडू। जानलेवा कोरोना वायरस ( Coronavirus ) को लेकर चीन ( China ) में हाहाकार मचा हुआ है, इस बीच नेपाल की मीडिया ( Nepali Media ) में छपी एक तस्वीर को लेकर नेपाल-चीन ( Nepal-China ) में विवाद पैदा हो गया है।

दरअसल, नेपाली मीडिया में चीन के महान क्रांतिकारी नेता माओ त्से तुंग ( Mao Tse Tung ) का एक फोटो छापा गया, जिसमें उन्हें मास्क लगाया दिखाया गया है। इसको लेकर चीन नेपाली मीडिया पर भड़क गया और धमकी दी है।

चीन में Coronavirus का तांड़व जारी, दक्षिण कोरिया में वायरस से पहली मौत

इसको लेकर नेपाल ने भी कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की और कहा वह अपने यहां मीडिया की आजादी को लेकर प्रतिबद्ध है। चीन को कोई हक नहीं है कि वह सीधे तौर पर नेपाली मीडिया व उनके संपादकों पर कोई आपत्तिजनक टिप्पणी करे या धमकी दे।

नेपाली मीडिया ने साझा विज्ञप्ति में की चीन की आलोचना

मीडिया में छपे माओ त्से तंग की त्सवीर को लेकर चीन ने जिस तरह से नेपाली मीडिया और वहां के संपादकों को धमकी दी, उसके बाद नेपाल की सरकार और मीडिया हाउस ने भी चीन को आंखे दिखाई है।

नेपाल के 17 संपादकों ने एक साथ साझा विज्ञप्ति जारी करते हुए चीन के रवैये की कड़ी आलोचना की है। सभी ने कहा कि नेपाली मीडिया, लेखक, संपादक या इलस्ट्रेटर के खिलाफ चीन का धमकी भरा रवैया कतई मंजूर नहीं किया जा सकता है।

दूसरी तरफ नेपाली मीडिया को लेकर चीन की धमकी और विरोध को लेकर नेपाल सरकार ने भी गंभीरता से लेते हुए साफ कर दिया कि नेपाल में मीडिया की स्वतंत्रता बरकरार रहेगी। उसपर कोई आंच नहीं आने दी जाएगी। नेपाली मीडिया ने विरोध के स्वरूप में उसी लेख को फिर से छापा है।

क्या है मामला?

आपको बता दें कि दरअसल, चीन समेत इस वक्त दुनिया के कई देशों में जानलेवा कोरोना वायरस का प्रकोप है। अकेले चीन में इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 2118 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 74 हजार के करीब लोग संक्रमित हैं।

यह वायरस चीन के वुहान शहर से फैलना शुरू हुआ था। अब नेपाल भी इस वायरस की चपेट में है। नेपाल में भी कई मामले आ चुके हैं। इसी को लेकर नेपाली मीडिया ने चीन के सबसे बड़े क्रांतिकारी नेता माओ त्से तुंग की एक तस्वीर को छापा। इस तस्वीर में उन्हें मास्क पहने दिखाया गया है। इसको लेकर चीन ने सख्त एतराज जताया और नेपाली मीडिया को धमकी दी।

कोरोना वायरस ने अब यूपी में फैलाई अपनी दहशत, ग्राहकों से लेकर व्यापारियों की तोड़ी कमर

संपादकों का आरोप है कि 18 फरवरी को चीनी दूतावास ने नेपाल के एक अखबार में छपे लेख और इलस्ट्रेशन को लेकर खासी नाराजगी दिखाई थी और संपादक समेत लेखक और कार्टूनिस्ट का नाम लिखकर उन्हें धमकी दी थी।
बता दें कि यह लेख नाटो के एक पूर्व अमरीकी राजदूत ने लिखी थी, जिसमें उन्होंने कोरोना वायरस को लेकर बताया था कि किस तरह से चीन के संदिग्ध और रहस्यमय रवैये से दुनिया भर में डर और आतंक का माहौल फैल गया है। इसी लेख में उन्होंने एक कार्टून के जरिए चीनी क्रांति के महानायक माओ त्से तुंग को मॉस्क लगाए दिखाया था।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here