China lost 140 billion dollar due to coronavirus most trade stalled

0
42


चीन को कोरोना वायरस की वजह से 140 बिलियन डॉलर का नुकसान उठाना पड़ा है वो भी मात्र एक सप्ताह के भीतर में। दरअसल चीन में लूनर न्यू ईयर के बाद आमतौर पर लोग अपने दोस्तों, सहकर्मियों और परिवार के सदस्यों के साथ छुट्टी मनाने निकलते हैं। लेकिन कोरोना वायरस जो कि संक्रामक बीमारी है, जिसका असर लोगों के बिजनेस पर पड़ गया। 

चीन के फोशन में रहने वाले यवोन मा जो कि वाइन और स्प्रिट डिस्ट्रिब्यूशन का काम करते हैं, ने Bloomberg से बातचीत में कहा है कि पिछले कुछ दिनों से हम वाइन की एक बोतल भी नहीं बेच पाए हैं। मा कहते हैं कि दिक्कत यह है कि हम नहीं जानते कि यह स्थिति कब समाप्त होगी। इसका असर खुदरा विक्रेताओं पर पड़ रहा है। पिछले साल त्योहार के दौरान खर्च 1 ट्रिलियन युआन (143 बिलियन डॉलर) था जो कि 2018 की तुलना में 8.5 प्रतिशत ज्यादा था। मा ने कहा है कि कोरोना वायरस बहुत तेजी से फैल रहा है। देश भर में 17,000 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। 

मा कहते हैं कि चीनी नव वर्ष पर कंपनियां पर बुरा असर पड़ा है। ऑक्सफोर्ड इकोनॉमिक्स के अनुसार, एक साल पहले से पहली तिमाही में वास्तविक निजी खपत सिर्फ 1.1% बढ़ेगी। यह 6.8% की वृद्धि के पिछले पूर्वानुमान से नीचे है। सबसे ज्यादा जोखिम पर्यटन, मनोरंजन, रिटेलिंग और रेस्तरां जैसे व्यवसाय हैं। क्योंकि वायरस को फैलने से रोकने के लिए इन पर रोक लग गई है।

एक होटल के मैनेजर रॉबर्ट झांग करते कहते हैं कि दक्षिण-पूर्वी शहर फ़ूझोउ में लगभग 100 कमरों वाले होटल में, चंद्र नव वर्ष के दूसरे दिन से कोई भी मेहमान नहीं है। जिसका मतलब है कि लगभग 400,000 युआन का राजस्व का सफाया। फिलहाल जो होटल बंद पड़े हैं वो खोल नहीं सकते हैं क्योंकि ऐसे में वायरस का खतरा रहेगा। ऐसे में ये होटल एक या दो दिन नहीं बल्कि लंबे समय तक बंद रहेंगे।

इसी तरह, कई दुकानों को बंद कर दिया गया है और उपभोक्ताओं ने अपने सारे प्लान रद्द कर दिए हैं। कई फिल्म स्टूडियो ने चीनी नव वर्ष के लिए बड़ी रिलीज़ की योजना बनाई है, जिसमें बॉक्स ऑफिस पर पिछले साल लगभग 10% की वृद्धि थी। सरकारी शिन्हुआ समाचार एजेंसी के अनुसार, इस साल रिलीज़ से पहले एडवांस की बिक्री लगभग 500 मिलियन युआन थी। लेकिन सब खटाई में पड़ गया है। इस तरह से देखे बाकी क्षेत्रों पर जो कोरोना वायरस की वजह से ठंडे पड़ गए हैं और चीन को अरबों रुपए का नुकसान उठाना पड़ा है।

यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस का कहर, चीन के शेयर बाजार में 5 साल की सबसे बड़ी गिरावट


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here