CK Nayudu Under-23 Yashashvi Towards A Double Century – सीके नायुडू अंडर-23 : यशस्वी दोहरे शतक की ओर, पांडिचेरी पर मुंबई ने बनाई भारी बढ़त

0
6


Yashasvi Jaiswal जायसवाल जबरदस्त फॉर्म से गुजर रहे हैं। विश्व कप में शानदार प्रदर्शन कर लौटे यशस्वी ने सीके नायुडू ट्रॉफी में अपनी पारी वहीं से शुरू की है, जहां विश्व कप में छोड़ी थी।

मुंबई : आईसीसी अंडर-19 विश्व कप के फाइनल में टीम इंडिया बांग्लादेश से हारकर भले चौथी बार खिताब से वंचित रह गई थी, लेकिन मुंबई के युवा बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) का बल्ला पूरे विश्व कप के दौरान जमकर बोला था। फाइनल मैच में उन्होंने 88 रन की पारी खेली थी तो सेमीफाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ शतक लगाया था। पूरे टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा 400 रन बनाने वाले यशस्वी का बल्ला अब भी खामोश नहीं हुआ। उनका गरजना जारी है। विश्व कप के बाद मुंबई की ओर से सीके नायडू अंडर-23 टूर्नामेंट (CK Nayudu Trophy) में वह पहली बार उतरे और शतक ठोंककर नाबाद हैं।

यशस्वी तेजी से बढ़ रहे हैं दोहरे शतक की ओर

यशस्वी जायसवाल ने मुंबई और पांडिचेरी के बीच वानखेड़े स्टेडियम पर खेले जा रहे मुकाबले में महज 211 गेंदों पर 171 रन ठोंक दिए हैं और वह क्रीच पर बने हुए हैं। वह तेजी से दोहरे शतक की तरफ बढ़ रहे हैं तो उनके साथ मुंबई के कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज हार्दिक जितेंद्र तमोरे 83 रन बना चुके हैं और वह अपने शतक की ओर बढ़ रहे हैं। खेल के दूसरे दिन मुंबई दो विकेट के नुकसान पर 334 रन बना चुका है और उसने पहली पारी के आधार पर पांडिचेरी पर 115 रन की बढ़त बना ली है।

शाई होप का शतक बेकार, रोमांचक वनडे में श्रीलंका ने विंडीज को दी एक विकेट से मात

पांडिचेरी को 209 रनों पर समेटा

मुंबई की टीम ने टॉस जीतकर पांडिचेरी को पहले बल्लेबाजी के लिए बुलाया था। पांडिचेरी ने अपनी पहली पारी में आकाश करगावे के अर्धशतक की मदद से 209 रनों का स्कोर खड़ा किया। आकाश ने पांडिचेरी की ओर से 50 रन की पारी खेली। उनके अलावा और कोई बल्लेबाज मुंबई के खिलाफ विकेट पर टिककर खेलने का साहस नहीं जुटा सका। मुंबई की ओर से मिलिंद मांजरेकर ने 15.5 ओवर में 41 रन देकर पांच विकेट लिए।

मुंबई की शानदार शुरुआत

मुंबई की ओर से अमन हाकिम खान और यशस्वी जायसवाल बल्लेबाजी करने उतरे थे। अमन 52 गेंद पर 64 रन की पारी खेलकर आउट हो गए। इसके बाद प्रमोट कर तीसरे नंबर पर भेजे गए हरफनमौला और जीनियस सचिन तेंदुलकर के पुत्र अर्जुन तेंदुलकर ज्यादा कुछ नहीं कर पाए और वह महज दह रन बनाकर आउट हो गए। इसके बाद यशस्वी का साथ देने के लिए विकेट पर उतरे तमोरे ने और कोई क्षति नहीं होने दी और अपनी टीम को विशाल स्कोर की तरफ ले जा रहे हैं।

IND vs NZ : पहले टेस्ट में भारत पर मंडरा रहा है हार का खतरा, दूसरी पारी में 144 पर चार विकेट खोए

सरफराज बैठे हैं डगआउट में

पांडिचेरी के लिए अब भी मुश्किल कम नहीं हुई है। तमोरे और यशस्वी के अलावा इस मैच में एक और स्टार बल्लेबाज सरफराज खान डगआउट में अपनी बल्लेबाजी के इंतजार में बैठे हैं। वह इस साल जबरदस्त फॉर्म में हैं। मुंबई की ओर से उन्होंने रणजी ट्रॉफी के छह मैचों में एक तिहरे, एक दोहरे शतक समेत तीन शतकों की मदद से 900 से ज्यादा रन जड़ चुके हैं। अगर अर्जुन तेंदुलकर की बात करें तो वह इस मैच में न सिर्फ बल्लेबाजी में कुछ खास कर पाए, बल्कि गेंदबाजी में भी अपना असर नहीं छोड़ पाए। उन्हें पांडिचेरी की पहली पारी में महज एक विकेट ही मिला था। लेकिन यह टूर्नामेंट लंबा है। इसके अलावा अभी इस मैच में भी दोनों टीमों की दूसरी पारी बाकी है। उनके पास इस मैच की दूसरी पारी के अलावा बाकी बचे मैचों में अपना छाप छोड़ने का मौका है।








LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here