Coronavirus : Death Toll Rising In China And All Updates – वुहान से लौटे किसी भारतीय को कोरोनावायरस नहीं, चीन में करीब 636 की मौत

0
33


कोरोनावायरस का कहर
– फोटो : पीटीआई

ख़बर सुनें

चीन में महामारी का रूप ले चुके कोरोना वायरस से गुरुवार को और 73 लोगों की मौत हो गई जिससे मृतकों की संख्या बढ़कर 636 पर पहुंच गई। साथ ही कोरोना वायरस से पुष्ट मामलों की संख्या करीब 31,000 हो गई। वहीं चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ कोरोनावायरस संक्रमण को लेकर बातचीत की। इस दौरान जिनपिंग ने इस बात पर जोर दिया कि चीन ने इस महामारी से लड़ने के लिए हर संभव प्रयास किया है।

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने शुक्रवार को बताया कि कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित हुबेई प्रांत और उसकी प्रांतीय राजधानी वुहान में बृहस्पतिवार को 73 लोगों की मौत हो गई जबकि जिलिन, हेनन, ग्वांगडोंग और हैनान प्रांतों में एक-एक व्यक्ति के मारे जाने की खबर है।

आयोग ने बताया कि बृहस्पतिवार को 73 लोगों की मौत हो गई जबकि 3,143 लोगों के संक्रमण की चपेट में आने के नये मामले दर्ज किए गए। कोरोना वायरस की चपेट में आए मामलों की कुल संख्या 31,161 पर पहुंच गई है।

उसने बताया कि गुरुवार तक संक्रमण से पीड़ित करीब 1,540 लोगों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। चीनी अधिकारियों ने बताया कि बृहस्पतिवार तक देश में रह रहे 19 विदेशी नागरिकों के कोरोना वायरस की चपेट में आने की पुष्टि हुई। हालांकि उन्होंने उनकी नागरिकता के बारे में खुलासा नहीं किया।

कोरोनावायरस को लेकर भारत ने सख्ती बरतते हुए दुनिया के किसी भी कोने से भारत आने वाले चीनी नागरिकों को पांच फरवरी से पहले जारी हुए वीजा के अमल पर रोक लगा दी है। इसमें नियमित (स्टीकर) और ई-वीजा शामिल है। हालांकि, हांगकांग, मकाऊ और ताइवान के चीनी पासपोर्ट धारकों को रियायत दी गई है।

ऑनलाइन न्यूज पोर्टल का दावा, 24 हजार से ज्यादा मरे

चीन में कोरोनावायरस से होने वाली मौतों को लेकर नई बहस शुरू हो गई है। कई देशों में काम करने वाली चीनी कंपनी टेनसेंट ने कुछ दिन पहले कथित तौर पर एक डाटा जारी किया जिसके अनुसार कोरोनावायरस के कारण चीन में 24,589 लोगों की मौत हो चुकी है। इस खबर के पूरी दुनिया में आग की तरह फैलने के बाद अचानक से कंपनी की साइट से यह डाटा भी लिया गया। लेकिन अंजाने में हुए इस कथित खुलासे से इस कयास को बल मिला है कि चीनी सरकार मरने वालों की संख्या को घटा कर पेश कर रही है। 

कोडिंग की गड़बड़ी या फिर भंडाफोड़ 

सोशल मीडिया पर अटकलें तेज हैं कि कम्प्यूटर में कोडिंग की गड़बड़ी की वजह से टेनसेंट का यह असली डेटा ऑनलाइन लीक हो गया। कुछ अन्य लोगों का मानना है कि टेनसेंट में काम करने वाले किसी शख्स ने जानबूझकर असली डेटा लीक किया है ताकि दुनिया को वास्तविक हालात का पता चल सके।

अस्पताल के कॉरिडोर में लोगों के शव बिखरे पड़े

सोशल मीडिया में कुछ दिनों पहले एक वीडियो जारी हुआ था। जिसमें दावा किया गया कि वह वुहान के एक अस्पताल का है और उसके  कॉरिडोर में लोगों के शव बिखरे पड़े हुए हैं। उन्हें कोई पूछने वाला नहीं है। हालत यह है कि 10 दिनों से लगातार काम कर रहे एक युवा डॉक्टर की हॉर्ट अटैक से मौत हो गई है।

दुनियाभर में कोरानावायरस से संक्रमित लोगों की तादाद 30,000 के पार

चीन के वुहान शहर से फैला कोरोनावायरस दुनियाभर में अब तक 30 हजार से ज्यादा लोगों को अपनी चपेट में ले चुका है। बीजिंग में शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक अकेले चीन की मुख्य भूमि पर 30 हजार से ज्यादा लोगों के इस विषाणु से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। इसके अलावा हांगकांग में एक व्यक्ति की मौत सहित कुल 22 मामले सामने आए हैं।

आंकड़ों के मुताबिक मकाऊ में 10 मामले सामने आए हैं और इस विषाणु से सबसे अधिक मौतें चीन के मध्य प्रांत हुबेई में हुई है जहां पर दिसंबर में सबसे पहले इस विषाणु से इंसानों में संक्रमण का खुलासा हुआ था। 

विभिन्न देशों की यह है स्थिति

विभिन्न देशों की बात करें तो जापाम में इसके 45 मामले सामने आए हैं वहीं सिंगापुर में 28 मामले सामने आए हैं। थाईलैंड में 25, दक्षिण कोरिया में 23, ऑस्ट्रेलिया और मलयेशिया में 14-14, जर्मनी और ताइवाम में 13-13 मामले सामने आए हैं। अमेरिका में कोरोनावायरस के 12, वियतनाम में 10, फ्रांस में छह, संयुक्त अरब अमीरात में पांच, कनाडा में चार और भारत, ब्रिटेन व फिलीपींस में तीन-तीन मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही रूस और इटली में दो-दो मरीजों में कोरोनावायरस का संक्रमण मिला है। वहीं, बेल्जियम, नेपाल, श्रीलंका, स्वीडन, स्पेन, कंबोडिया और फिनलैंड में एक-एक मामला सामने आया है।

हुबेई से निकलने के इच्छुक 10 भारतीय नहीं पास कर पाए स्वास्थ्य जांच

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बृहस्पतिवार को बताया कि कोरोना वायरस से प्रभावित चीन के हुबेई प्रांत से 647 भारतीयों को निकाला गया है। हालांकि 10 भारतीय स्वास्थ्य जांच न पास कर पाने के कारण नहीं आ सके। हम चीन के संपर्क में हैं और इन नागरिकों के जल्द स्वस्थ होकर सुरक्षित वापसी के हरसंभव उपाय पर विचार कर रहे हैं। पुरानी एडवाइजरी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, भारतीयों को चीन यात्रा से बचने की सलाह दी जाती है।

उन्होंने कहा, वुहान और आसपास इलाकों से लाए गए भारतीयों में बीमारी का कोई लक्षण नहीं मिला। वहीं, चीन में फंसे पाकिस्तानी छात्र के मदद मांगने के वायरल वीडियो पर कुमार ने कहा, पाकिस्तानी सरकार से ऐसा अनुरोध नहीं मिला है। अगर ऐसी स्थिति होती है तो उपलब्ध संसाधनों को ध्यान में रखते हुए हम इस पर विचार कर सकते हैं। गौरतलब है कि भारत ने मालदीव के सात नागरिकों निकाला है।

चीन के वुहान से लौटे भारतीयों के लिए अच्छी खबर है। एयर इंडिया के विशेष विमान से लाए गए सभी 645 लोगों की कोरोनावायरस की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है। इन भारतीय नागरिकों को सेना और आईटीबीपी द्वारा बनाए गए अलग-अलग केंद्रों में रखा गया है। 

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को यह जानकारी दी। मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि छह फरवरी तक 1,265 उड़ानों के 1,38,750 यात्रियों की कोरोनावायरस जांच की गई, लेकिन अब तक कोई नया मामला सामने नहीं आया है। भारत में अभी तक सिर्फ केरल में ही कोरोनावायरस के तीन मामलों की पुष्टि हुई है। 

हाल ही में भारत लौटे वुहान विश्वविद्यालय में पढ़ाई करने वाले इन तीन मेडिकल छात्रों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके अलावा भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईएमसीआर) ने 510 लोगों के नमूनों की जांच की है, जिनमें उन तीन छात्रों को छोड़कर सभी की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है। 

बयान के अनुसार चीन के वुहान से लौटे और सेना तथा आईटीबीपी द्वारा बनाए गए अलग-अलग केंद्रों में रखे गए सभी 645 लोगों की कोरोना वायरस की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है

चीन में महामारी का रूप ले चुके कोरोना वायरस से गुरुवार को और 73 लोगों की मौत हो गई जिससे मृतकों की संख्या बढ़कर 636 पर पहुंच गई। साथ ही कोरोना वायरस से पुष्ट मामलों की संख्या करीब 31,000 हो गई। वहीं चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ कोरोनावायरस संक्रमण को लेकर बातचीत की। इस दौरान जिनपिंग ने इस बात पर जोर दिया कि चीन ने इस महामारी से लड़ने के लिए हर संभव प्रयास किया है।

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने शुक्रवार को बताया कि कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित हुबेई प्रांत और उसकी प्रांतीय राजधानी वुहान में बृहस्पतिवार को 73 लोगों की मौत हो गई जबकि जिलिन, हेनन, ग्वांगडोंग और हैनान प्रांतों में एक-एक व्यक्ति के मारे जाने की खबर है।

आयोग ने बताया कि बृहस्पतिवार को 73 लोगों की मौत हो गई जबकि 3,143 लोगों के संक्रमण की चपेट में आने के नये मामले दर्ज किए गए। कोरोना वायरस की चपेट में आए मामलों की कुल संख्या 31,161 पर पहुंच गई है।

उसने बताया कि गुरुवार तक संक्रमण से पीड़ित करीब 1,540 लोगों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। चीनी अधिकारियों ने बताया कि बृहस्पतिवार तक देश में रह रहे 19 विदेशी नागरिकों के कोरोना वायरस की चपेट में आने की पुष्टि हुई। हालांकि उन्होंने उनकी नागरिकता के बारे में खुलासा नहीं किया।

कोरोनावायरस को लेकर भारत ने सख्ती बरतते हुए दुनिया के किसी भी कोने से भारत आने वाले चीनी नागरिकों को पांच फरवरी से पहले जारी हुए वीजा के अमल पर रोक लगा दी है। इसमें नियमित (स्टीकर) और ई-वीजा शामिल है। हालांकि, हांगकांग, मकाऊ और ताइवान के चीनी पासपोर्ट धारकों को रियायत दी गई है।

ऑनलाइन न्यूज पोर्टल का दावा, 24 हजार से ज्यादा मरे

चीन में कोरोनावायरस से होने वाली मौतों को लेकर नई बहस शुरू हो गई है। कई देशों में काम करने वाली चीनी कंपनी टेनसेंट ने कुछ दिन पहले कथित तौर पर एक डाटा जारी किया जिसके अनुसार कोरोनावायरस के कारण चीन में 24,589 लोगों की मौत हो चुकी है। इस खबर के पूरी दुनिया में आग की तरह फैलने के बाद अचानक से कंपनी की साइट से यह डाटा भी लिया गया। लेकिन अंजाने में हुए इस कथित खुलासे से इस कयास को बल मिला है कि चीनी सरकार मरने वालों की संख्या को घटा कर पेश कर रही है। 

कोडिंग की गड़बड़ी या फिर भंडाफोड़ 

सोशल मीडिया पर अटकलें तेज हैं कि कम्प्यूटर में कोडिंग की गड़बड़ी की वजह से टेनसेंट का यह असली डेटा ऑनलाइन लीक हो गया। कुछ अन्य लोगों का मानना है कि टेनसेंट में काम करने वाले किसी शख्स ने जानबूझकर असली डेटा लीक किया है ताकि दुनिया को वास्तविक हालात का पता चल सके।

अस्पताल के कॉरिडोर में लोगों के शव बिखरे पड़े

सोशल मीडिया में कुछ दिनों पहले एक वीडियो जारी हुआ था। जिसमें दावा किया गया कि वह वुहान के एक अस्पताल का है और उसके  कॉरिडोर में लोगों के शव बिखरे पड़े हुए हैं। उन्हें कोई पूछने वाला नहीं है। हालत यह है कि 10 दिनों से लगातार काम कर रहे एक युवा डॉक्टर की हॉर्ट अटैक से मौत हो गई है।

दुनियाभर में कोरानावायरस से संक्रमित लोगों की तादाद 30,000 के पार


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here