Coronavirus Lockdown Indigo Said No Deduction In Salary Of Employees – Coronavirus Lockdown: Indigo Airlines ने अपने कर्मचारियों को दी बड़ी राहत, नहीं काटी जाएगी Salary

0
7


नई दिल्ली। देश के बड़ी घरेलू एयरलाइन कंपनियों में से एक इंडिगो ने अपने हजारों को कर्मचारियों को राहत देते लॉकडाउन के दौरान घर में रहने वाले कर्मचारियों की सैलरी और छुट्टी ना काटने का ऐलान किया गया हैै। कोरोना वायरस की वजह से इंडिगो की सभी घरेलू उड़ाने 31 मार्च तक के लिए कैंसल है। ऐसे में सरकार की ओर से सभी कंपनियों को कर्मचारियों की सैलरी और छुट्टी ना काटने की एडवाइजरी जारी की थी, जिसके बाद कंपनी की ओर से यह निणर्य लिया गया है।

नहीं काटी जाएगी सैलरी
कंपनी की ओर से कर्मचारियों को ईमेल भेजा है। जिसमें कहा गया है कि कंपनी के पास अप्रैल के लिए अच्छी खासी एडवांस बुकिंग है। एयरलाइन कम कैपेसिटी के साथ फिर से उड़ान भरने के लिए पूरी तरह से रेडी है। कंपनी ने अपने ईमेल में आगे कहा कि जो कर्मचारी अस्थाई कैंसिलेशन की वजह से काम नहीं कर पा रहे हैं और अपने घर पर है, उनकी सैलरी को नहीं काटा जाएगा। साथ ही छुट्टियों में भी कटौती नहीं की जाएगी।

एक अप्रैल से संचालन शुरू होने की संभावना
भले ही देश के प्रधानमंत्री पूरे देश में 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा कर दी है, लेकिल कंपनी को उम्मीद है कि एक अप्रैल से डॉमैस्टिक फ्लाइट्स का संचानल एक अप्रैल से फिर से शुरू हो जाएगा, लेकिन यह सब सरकार के नए दिशा निर्देशों नर निर्भर करेगा। वहीं दूसरी ओर एविएशन सेक्टर की ग्लोबल एडवाइजरी कंपनी सीएपीए के अनुसार यह निलंबन 31 मार्च से आगे भी बढ़ सकता है। इंडिगो के अनुसार बीते कुछ समय से एविएशन सेक्टर के लिए काफी मुश्किलों भरा रहा है। उम्मीद की जा रही है कि आने वाले कुछ हफ्तों में कंपनी की लागत के मुकाबले इनकम कम रहेगी। ऐसे में कंपनी को कैश बचाने पर जोर देना होगा।

टिकटों की कैंसिलेशन पर कोई शुल्क नहीं
कंपनी के अनुसार इस महामारी के दौरान कंपनी 31 अप्रैल तक टिकटों की कैंसिलेशन पर कोई शुल्क नहीं ले रही है। वहीं इस राशि को बुक किए गए टिकट के पीएनआर नंबर पर एक वॉलेट में रखा जाएगा । ग्राहक उस राशि का उपयोग कर 20 सितंबर तक वैकल्पिक बुकिंग कर सकते हैं। कंपनी के अनुसार फ्लाइट्स की कैंसिलेशन की वजह से घर बैठे कर्मचारियों को वेतन कंपनी अपनी सेविंग्स में देगी।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here