During Budget Finance Deputy Manager Kuldeep Father Passed Away – बजट प्रक्रिया में शामिल अफसर के पिता का हुआ देहांत,नियमों का पालन करते हुए नहीं कर पाए अंतिम दर्शन

0
31


नई दिल्ली। दफ्तरों में पूरा दिन काम करने पर जब छुट्टी नहीं मिलती है तो हम लोग कितना तिलमिला उठते हैं। कई बार ऐसा भी होता है कि बहुत जरूरी काम आने पर या फिर इमर्जेंसी में भी दफ्तर से छुट्टी लेना बहुत मुश्किल हो जाता है। लेकिन वहीं कुछ ऐसे भी लोग हैं जो अपनी नौकरी के बनाए नियमों का पालन बखूबी करना जानते हैं। जी हां, हम बात करे हैं वित्त मंत्रालय के प्रेस डिप्टी मैनेजर कुलदीप कुमार शर्मा की।

बजट 2020 की छपाई प्रक्रिया के चलते कुलदीप कुमार शर्मा एक महीने से मंत्रालय में हैं। बजट नियमों के अनुसार जब तक बजट पेश नहीं होता तब बजट बनाने से जुड़े लोग ना बाहर जा सकते हैं और ना ही वो किसी से संपर्क कर सकते हैं। बजट छपाई के वक्त मंत्रालय को सील कर दिया जाता है। वहीं कुलदीप को जब ये खबर मिली की उनके पिता का निधन हो गया है। तो उन्होंने खुद ही बाहर जाने से मना कर दिया। उन्होंने कहा कि वो बजट पेश होने के बाद ही अपने घर जाएंगे। उनकी इस बात तारीफ करते हुए वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी ने ट्वीट करते हुए उनकी तारीफ की है।

 

कहां बजट की छपाई

पहले जब भी बजट छापा जाता था तो राष्ट्रपति भवन में इसकी प्रक्रिया की जाती थी। लेकिन 1950 के दौरान इंग्लैड के एक पत्रकार ने बजट को लीक कर दिया था। जिसके बाद कई कड़े कानून बनाए गए और तय किया गया कि बजट मिंटो रोड स्थित वित्त मंत्रालय में ही छापा जाएगा। लेकिन 1980 में बजट की छपाई को नॉर्थ ब्लॉक के वित्त मंत्रालय में छापा जाने लगा। बजट को यहां छपते हुए पूरे 40 साल हो गए हैं। आपको बता दें कि पहले बजट हमेशा अंग्रेजी भाषा में छपता था, लेकिन 1955-56 में बजट हिंदी में भी छापा जाने लगा।

‘बजट’ और हलवा रस्म का क्या है रिश्ता

बजट की छपाई शुरू होने से पहले हमेशा हलवा रस्म की जाती है। इस रस्म में वित्त मंत्री संग मंत्रालय के अधिकारी और कर्मचारी शामिल होते है। भारतीय पंरपरा के अनुसार कुछ भी अच्छा काम करने से पहले मुंह को मीठा करना चाहिए। मीठा खाने से सकारात्मकता और ऊर्जा प्राप्त होती है। इस प्रक्रिया के बाद ही वित्त मंत्रालय के अधिकारियों को बजट पेश होने तक अलग कर दिया जाता है। इस दौरान उनसे कोई संपर्क नहीं कर सकता है।

 

 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here