Dysentery due to infection can have serious consequences these are home remedies

0
6


पेचिश पेट का ऐसा रोग है, जिसमें दस्त होने के साथ रक्त निकलता है। इस बीमारी को आंव भी कहते हैं। यह एक प्रकार का संक्रमण है, जो आंतों में होता है। इसमें पेट के निचले हिस्से में तेज दर्द होता है। पेचिश की बीमारी होने पर इसका तुरंत इलाज करवा लेना चाहिए, नहीं तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं।

पेचिश के लक्षण
www.myupchar.com से जुड़ीं एम्स की डॉ. वीके राजलक्ष्मी के अनुसार, यदि रोगी को पेट में दर्द के साथ-साथ बुखार, कंपकंपी और उल्टी दस्त होते हैं और दस्त में खून दिखता है तो इसका मतलब है कि मरीज को पेचिश की बीमारी है। इस बीमारी में रोगी को मल के साथ कफ जैसा चिकना पदार्थ भी निकलता है और बार-बार मरोड़ें उठती हैं। पेचिश का रोग 8 से 10 दिन में ठीक हो जाता है, लेकिन इसमें रोगी को बहुत सी सावधानियां रखनी चाहिए।

घरेलू उपचार
www.myupchar.com से जुड़े डॉ, लक्ष्मीदत्त शुक्ला के अनुसार, पेचिश के रोगियों को मसालेदार, तले हुए पदार्थ, मैदा और मावा जैसी भारी चीजें खाने से बचना चाहिए। इसमें मरीज को अधिक मात्रा में पेय पदार्थ लेते रहना चाहिए। पेय पदार्थ में ज्यादातर नमक शक्कर का घोल पीना चाहिए। इसके अलावा दही, छाछ, केला खाने से भी यह रोग जल्दी ठीक होता है। पेचिश के रोगी और भी कई घरेलू उपचारों के द्वारा ठीक हो सकते हैं आइए जानते हैं इन उपचारों के बारे में –
आमतौर पर चावल, दही खाने से भी यह रोग जल्दी ठीक होता है। तीन दिन तक लगातार दही-चावल का सेवन पेचिश के रोगियों के लिए बेहतर इलाज है।
एक गिलास छाछ में एक चम्मच सेंधा नमक और आधा चम्मच काली मिर्च व आधा चम्मच जीरा पाउडर डालकर पीने से इस समस्या से जल्दी आराम मिलेगा।
एक गिलास पानी में एक नींबू निचोड़कर उसमें आधा चम्मच काला नमक मिलाकर पीएं, इस घोल को दिन में पांच से छ: बार पीने से समस्या से निजात मिलेगी।
एक गिलास छाछ में हरा केला मसलकर पीने से भी रोगी जल्दी ठीक हो जाता है, लेकिन इसे दिन में 3 बार पीने से जल्द आराम मिलता है।
एक गिलास दूध में एक चम्मच पिसी हुई सोंठ और एक चम्मच अरण्डी का तेल (केस्टर ऑयल) मिलाकर तीन से चार दिन तक पीने से फायदा होता है। इससे पेट भी साफ होता है।
एक गिलास दही में या छाछ में एक चम्मच ईसबगोल डालकर दिन में तीन बार पीने से भी यह समस्या जल्दी ठीक होती है।
एक बर्तन में एक गिलास पानी लें, इसमें एक चम्मच हल्दी, दो चम्मच दही, चुटकी भर हींग और स्वादानुसार सेंधा नमक मिला लें, फिर इसे दस से पन्द्रह मिनट के लिए उबालें और ठंडा होने के बाद इसे थोड़ा-थोड़ा करके दिनभर में पीते रहें, रोगी को जल्दी आराम मिलेगा।

पेचिश से बचने के उपाय
पेचिश पेट में संक्रमण की वजह से होती है, जो खाने में लापरवाही और साफ-सफाई का ध्यान नही रखने से ज्यादा होती है। बासी खाना खाने, ज्यादा मसालेदार खाना खाने, और कच्चा खाने से भी यह बीमारी होती है। खाना खाने से पहले हाथ जरूर धोने चाहिए। पानी की शुद्धता का भी ध्यान रखना चाहिए। इसके अलावा पेचिश की समस्या ठीक होने के बाद थोड़े दिन बाहर का खाना खाने से बचना चाहिए।

अधिक जानकारी के लिए देखें : https://www.myupchar.com/disease/dysentery
स्वास्थ्य आलेख www.myUpchar.com द्वारा लिखे गए हैं, जो सेहत संबंधी भरोसेमंद जानकारी प्रदान करने वाला देश का सबसे बड़ा स्रोत है। इसे जरूर देखें और वीडियो के लिए सब्सक्राइब करें https://www.youtube.com/c/myUpchar
 
 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here