Ex Pakistani General Shahid Aziz was close ties to Al Qaeda, died in 2018

0
1


इस्लामाबाद। पाकिस्तानी सेना ( Pakistan Army ) के आतंकी संगठनों ( Terror Organization ) के साथ संबंध को लेकर कई बार सवाल उठे हैं और इसके सबूत भी मिले हैं। आतंकियों के साथ संबंध को लेकर एक बार फिर से पाकिस्तान की पोल खुल गई है।

दरअसल, एक तरफ अभी आतंकी मसूद अजहर ( Terrorist masood azhar ) को लेकर इमरान सरकार ने पाकिस्तान में मौजूद होने के दावे को खारिज किया था कि बहावलपुर में उसके होने के सबूत मिल गए हैं। दूसरी तरफ आतंकी संगठन अलकायदा ( Al Qaeda ) ने एक चौंकाने वाला खुलासा किया है।

पाकिस्तान: कराची में जहरीली गैस लीक होने का एक और मामला सामने आया, दो लोगों की मौत

इस खुलासे के बाद पाकिस्तान फिर से कटघरे में खड़ा हो गया है। अलकायदा ने दावा किया है कि 2016 में रहस्यमय तरीके से गायब हुए सेवानिवृत्त पाकिस्तानी जनरल शाहिद अजीज ( Pakistani General Shahid Aziz ) का उससे घनिष्ठ संबंध था और उनकी मौत 2018 में हुई थी।

आलकायदा ने यह दावा एक क्षेत्रीय शाखा द्वारा प्रकाशित एक पत्रिका के फरवरी संस्करण में किया है। हालांकि शाहिद के परिवार वाले हमेशा से इस बात से इंकार करते रहे हैं। अरब न्यूज ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि पत्रिका नवा-ए-अफगान जिहाद, (वॉयस ऑफ अफगान जिहाद) का दावा है कि अजीज के अल-कायदा से बेहद करीबी संबंध थे। बता दें कि यह मैगजीन अल-कायदा द्वारा भारतीय उपमहाद्वीप ( AQIS ) में प्रकाशित किया जाता है।

2005 में सेवानिवृत हुए थे शाहिद अजीज

पाकिस्तान के पूर्व जनरल शाहिद अजीज 37 साल तक सेना में अपनी सेवा देने के बाद 2005 में रिटायर हुए थे। पूर्व सेना प्रमुख परवेज मुशर्रफ ( Former army chief Pervez Musharraf ) के कार्यकाल के दौरान अजीज कई प्रमुख पदों पर महानिदेशक के तौर पर काम किया था।

रिटायर होने के बाद शाहिद अजीज ने 2013 में एक किताब लिखी थी। अपने किताब में उन्होंने पूर्व सेनाध्यक्ष की नीतियों की काफी आलोचना की थी।

FATF से झूठ बोल रहा पाकिस्तान, कहा-आतंकी सरगना मसूद अजहर और उसका पूरा परिवार लापता

शाहिद अजीज ने साल 2013 में ही ये दावा किया था कि कारगिल युद्ध के दौरान पाकिस्तान की ओर से मुजाहिदीन नहीं बल्कि पाकिस्तानी सेना के जवानों ने लड़ाई लड़ी थी।

2018 में हुई थी मौत!

मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि शाहिद अजीज ने आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट और अन्य जिहादी संगठनों के पक्ष में लड़ने के लिए अपना घर छोड़ दिया था और अफगानिस्तान चले गए थे। हालांकि जब 2018 में उनके लापता होने के साथ मौत की खबर सामने आई तो उनके परिवार वालों ये मानने से इनकार कर दिया।

परिवार वालों ने कहा कि पूर्व जनरल अजीज धार्मिक उपदेशक के तौर पर अपना निजी जीवन जी रहे हैं। आपको बता दें कि यह पहली बार है, जब अल-कायदा जैसे आतंकवादी संगठन ने पाकिस्तान के किसी सैन्य प्रमुख का उसके साथ सीधे संबंध के बार में दावा किया है। जबकि इसके ठीक उलट पाकिस्तानी सेना और हुकमरान हमेशा से आतंकियों के साथ संबंध को लेकर इनकार करते रहा है।

पाकिस्तान: PPP की महिला विधायक शहनाज अंसारी की गोली मारकर हत्या

मालूम हो कि एक्यूआइएस आतंकी संगठन अलकायदा का एक शाखा है जिसका गठन अल-कायदा प्रमुख अयमान अल-जवाहिरी ने 2014 में किया था। इस संगठन के जरिए अलकायदा पाकिस्तान, भारत, अफगानिस्तान, म्यांमार और बांग्लादेश में अपनी पैठ बढ़ाना चाहता है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.














LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here