EXPERT INTERVIEW : Healthy People Are Also At Risk Of Re-infection – CORONA EXPERT INTERVIEW : स्वस्थ हो चुके लोगों को भी दोबारा संक्रमण का खतरा

0
48


डॉ. जाहिदा भट्टी अमरीका के पेन्सिलवेनिया में संक्रामक बीमारियों की विशेषज्ञ हैं। वह इंटरनल मेडिसिन में एमडी हैं। वर्तमान में नॉर्थवेस्ट अलायंस मेडिकल गु्रप एरी, पेन्सिलवानिया में मेडिकल डायरेक्टर हैं। उन्हें बीस से अधिक साल का अनुभव है। उनसे पत्रिका संवाददाता रमेश कुमार सिंह ने उनसे विशेष बातचीत की।पेश है बातचीत के संपादित अंश-

सवाल : कोरोना वायरस क्या है, इसकी प्रकति बदल रही है?
उत्तर : कोरोना वायरस दिसंबर में चीन में पाया गया। कोरोना वायरस को कोविड-19 कहते हैं। इससे पहले इस परिवार से 2009 में सार्स, 2014 में मर्स नाम से आ चुका है। रिसर्च में पाया गया है कि इस वायरस का जेनेटिक मेकअप पूर्व के वायरस के जैसा है।यह वायरस 80 प्रतिशत लोगों में खांसी-जुकाम का लक्षण देता है। 20 प्रतिशत लोगों में निमोनिया के लक्षण होते हैं। इसमें से छह प्रतिशत लोगों में पूरे शरीर में सेप्टिक शॉक, मल्टी ऑर्गन फेल्योर होता है।
सवाल : कैसे जल्दी रिकवरी कर सकते हैं?
जिन्हें माइल्ड सिम्पटम्स हैं वे घर में आइसोलेट हो सकते हैं। इम्युनिटी बूस्ट करने के लिए अच्छा खाना खाएं, पानी पीएं, प्रोटीन भरपूर लें। चीनी, नमक ज्यादा न खाएं। विटामिन ए, डी, सी युक्त चीजें ज्यादा लें। जिंक लेने से भी इम्युनिटी बढ़ती है।
सवाल : इलाज के बाद एंटीबॉडीज की बात हो रही है, वह क्या है?
जब शरीर में कोई नया संक्रमण होता है तो इम्यून सिस्टम उसे पहचान लेता है। इससे बचाव के लिए श्वेत रक्त कोशिकाएं एक प्रोटीन बनाती है। वह एंटीबॉडी होता है। इससे एक समय बाद शरीर वायरस के संक्रमण से मुक्त हो जाता है। शरीर में तैयार एंटीबॉडी को दूसरे संक्रमित व्यक्ति के शरीर में डालने से वायरस को मारने में सक्षम होता है। लेकिन इस पर अभी शोध हो रहा है।
सवाल : कोरोना से स्वस्थ हो चुके लोगों को दोबारा होने का कितना खतरा है?
नहीं, ऐसा नहीं है। यह वायरस व व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर निर्भर करता है। ज्यादातर वायरस जनित बीमारियों में एंटीबॉडी छह माह से एक साल तक रहते हैं। जैसे हेपेटाइटिस ए व बी के एंटीबॉडी शरीर में जीवनभर रहते हैं। वहीं, एन्फ्लूएंजा का एंटीबॉडी एक से छह माह तक रहता है। उन्हें दो से चार हप्ते के अंदर दोबारा हो सकता है। इसलिए जो लोग स्वस्थ हो रहे हैं वह यह न मानें कि उन्हें दोबारा कोरोना संक्रमण नहीं हो सकता है।
सवाल : कोरोना वायरस के कब तक खत्म होने की उम्मीद है?
अभी कुछ नहीं कह सकते हैं। इस परिवार का ही सार्स और मर्स खत्म हो चुका है। लेकिन दोनों वायरसों की अपेक्षा इसकी प्रसार क्षमता यानी संक्रामकता बहुत तीव्र है। इसलिए इसके जल्द खत्म होने की संभावना कम है।
सवाल : जो लोग ठीक हो चुके हैं, उनको किस तरह की सावधानियां कब तक बरतनी चाहिए?
उनके शरीर में एंटीबॉडी बन गई है। उन्हें दो-चार सप्ताह तक पूरी तरह से आराम करना चाहिए। पौष्टिक खाएं। प्रसन्न रहें। प्रोटीन व विटामिन्स लें। उनको परिवार के अन्य लोगों से दूर रहना चाहिए। अस्पताल में ठीक हुए हैं जिनकी रिपोर्ट में कोविड-19 टेस्ट नेगेटिव है तो सामान्य तरीके से मिल सकते हैं।

साक्षात्कार का अगला पार्ट पढ़ने के लिए क्लिक करें…

EXPERT INTERVIEW-2 : इम्युनिटी बढ़ाने के लिए दवाएं अपने मन से खाना कितना ठीक है?


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here