GSK claim that world will need more than one COVID-19 vaccine

0
44


लंदन। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस महामारी से अब तक 1.20 लाख लोगों की मौत हो चुकी है और 19 लाख के करीब लोग संक्रमित हैं। कोरोना वायरस से निपटने के लिए दुनियाभर में चिकित्सक लगातार कोशिश कर रहे हैं और वैक्सीन बनाने के लिए शोध में जुटे हैं।

इस बीच ग्लेक्सोस्मिथक्लाइन की मुख्य कार्यकारी अधिकारी एम्मा वालमस्ले ( Chief Executive Officer Emma Walmsley ) ने बुधवार को एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि कोरोना संक्रमण के खतरे से लड़ने के लिए एक से अधिक COVID-19 वैक्सीन की आवश्यकता होगी। इसलिए दवा कंपनियों को कोरोना वायरस से लड़ने के लिए सबको भागीदार होना चाहिए।

साल 2016 में बन गई थी कोरोना वैक्सीन! लापरवाही की वजह से बंद हुआ था रिसर्च

इससे पहले ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन ( GlaxoSmithKline ) पीएलसी और सनोफी एसए ने मंगलवार को कहा कि वे तेजी से फैलने वाले कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एक टीका विकसित करेंगे।

दवा निर्माताओं ने कहा कि वे इस वर्ष की दूसरी छमाही में वैक्सीन के लिए नैदानिक परीक्षण शुरू करने की उम्मीद करते हैं। यदि सफल रहा, तो वैक्सीन 2021 की दूसरी छमाही में उपलब्ध होगी।

एक से अधिक वैक्सीन की होगी आवश्यकता

वाल्म्स्ले ने कहा कि हम सानुफी के साथ जीएसके की साझेदारी में COVID-19 वैक्सीन प्राप्त करने के प्रयास में जुटी है, लेकिन अभी भी ऐसा करने के लिए बहुत बड़ी मात्रा में काम करना बाकी है।।

वैश्विक स्तर पर इस चुनौतीपूर्ण वैश्विक स्वास्थ्य संकट से लड़ने के लिए दुनिया को निश्चित रूप से एक से अधिक वैक्सीन की आवश्यकता होगी। सानुफी के एस-प्रोटीन COVID-19 एंटीजन और जीएसके की महामारी संबंधी तकनीक के संयोजन से विकसित टीके को विकसित किया जाएगा।

Coronavirus Prevention : इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए डाइट में शामिल करें ये चीजें , कोरोना से बचाव में होगा कारगर

‘आमतौर पर एक वैक्सीन विकसित करने में एक दशक, कभी-कभी और भी अधिक समय लगता है, लेकिन जाहिर है कि हम एक अभूतपूर्व स्थिति में हैं। हम नियामकों के साथ साझेदारी करने की कोशिश कर रहे हैं और उतनी ही तेजी से आगे बढ़ सकते हैं जितना हम सुरक्षित रूप से कर सकते हैं।’


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here