Hockey India has given a new look to the domestic tournament with these changes

0
58


हॉकी इंडिया ने अपने खिलाड़ियों की हिस्सेदारी बढ़ाने तथा राज्य, केंद्र प्रशासित प्रदेशों, संस्थागत इकाईयों और अकादमियों में खेल के विकास के मकसद से अपनी घरेलू प्रतियोगिताओं को पुनर्गठित करने का फैसला किया। अब राष्ट्रीय चैम्पियनशिप अगले साल से नए प्रारूप में दिखाई देगी। हाल ही में हॉकी इंडिया के कार्यकारी बोर्ड द्वारा यह फैसला किया गया। जिन प्रतियोगिताओं का पुनर्गठन किया जाएगा, उसमें हॉकी इंडिया की मान्यता प्राप्त राज्य सदस्य इकाईयां, सार्वजनिक क्षेत्र की इकाईयां/ विभागीय इकाईयां और अकादमी सदस्य इकाईयों की सब जूनियर, जूनियर, सीनियर राष्ट्रीय चैम्पियनशिप (पुरूष और महिला दोनों वर्ग) शामिल हैं।

फिट इंडिया अभियान के साथ मिलकर CBSE चलाएगा लाइव फिटनेस सत्र

हॉकी इंडिया के बयान के अनुसार एक खिलाड़ी अपनी टीम की ओर से केवल एक ही प्रतियोगिता में हिस्सा लेने योग्य होगा। इसके अनुसार, ”केवल एक ही एथलीट को भारत की शीर्ष घरेलू प्रतियोगिता में उम्र ग्रुप के वर्ग में भाग लेने की अनुमति दी जाएगी।’ हॉकी इंडिया के अध्यक्ष मोहम्मद मुश्ताक अहमद ने कहा कि विभिन्न उम्र ग्रुप के लिए ए और बी डिवीजन में राष्ट्रीय चैम्पियनशिप की मेजबानी करने वाली पूर्व प्रणाली अब नहीं अपनाई जाएगी।

उन्होंने कहा कि अब सालाना राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में सभी राज्य सदस्य इकाईयां पुरूष और महिला वर्ग में सब जूनियर, जूनियर, सीनियर उम्र के ग्रुप में भाग लेंगी। टूर्नामेंट की नीति और दिशानिर्देश समान रहेंगे और प्रत्येक राष्ट्रीय चैम्पियनशिप लीग-कम-नॉकआउट आधार पर खेली जाएगी और पूल भाग लेने वाली टीमों पर निर्भर करेंगे। टूर्नामेंट अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ के नए नियमों के अनुसार आयोजित किए जाएंगे।

लॉकडाउन का फायदा उठाकर ऐसे तैयारी कर रही हैं अश्विनी पोनप्पा-सिक्की रेड्डी

 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here