How high protein diets may increase heart attack risk

0
41


हाई प्रोटीन डाइट यानी उच्च प्रोटीन वाले आहार से लोगों को वजन कम करने और मांसपेशियों के निर्माण में मदद मिल सकती है। नए अध्ययन से पता चलता है कि इससे धमनियों में अधिक प्लैक जमा होने लगता है। प्लैक वसा, कॉलेस्ट्रॉल, कैल्शियम एवं अन्य जमाव से बनता है। इससे दिल के दौरे का खतरा बढ़ जाता है।

नए शोध से पता चलता है कि उच्च प्रोटीन आहार से धमनियों में प्लैक जमा होने से धमनियों के टूटने और अवरुद्ध होने का खतरा रहता है। प्लैक ज्यादा होने से जोखिम और बढ़ सकता है। यह अध्ययन सेंट लुइस में वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ताओं
द्वारा चूहों पर किया गया।

www.myupchar.com  से जुड़े एम्स के डॉ. नबी वली का कहना है कि दिल का दौरा तब पड़ता है जब दिल तक जाने वाले ऑक्सीजन युक्त रक्त का प्रवाह अवरुद्ध हो जाता है। यह वसा, कोलेस्ट्रॉल और अन्य पदार्थों के कारण होता है, जो दिल तक पहुंचने वाली धमनियों में प्लैक बनाकर उन्हें अवरुद्ध करते हैं। बाधित रक्त प्रवाह के कारण दिल को ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है और यदि दिल को ऑक्सीजन जल्द न मिले तो दिल की मांसपेशियां नष्ट हो जाती है।

शोधकर्ताओं ने अध्ययन किया कि चूहों में एथेरोस्क्लेरोसिस या धमनी में प्लैक बिल्डअप को जानबूझकर प्रेरित करने के लिए एक उच्च वसा वाला आहार खिलाया गया। कुछ चूहों को उच्च वसा वाले आहार मिले जो प्रोटीन में भी उच्च थे। दूसरों को तुलना के लिए उच्च वसा, कम प्रोटीन वाला आहार दिया गया।

उच्च वसा, उच्च प्रोटीन आहार पर चूहों ने खराब तरीके से  एथेरोस्क्लेरोसिस विकसित किया। उच्च वसा, सामान्य-प्रोटीन आहार से तुलना में धमनियों में लगभग 30 प्रतिशत अधिक प्लैक रहा।  इस तथ्य के बावजूद कि उच्च वसा, सामान्य प्रोटीन आहार से इन चूहों की तरह अधिक प्रोटीन खाने वाले चूहों ने वजन नहीं बढ़ाया।

यूनिवर्सिटी में मेडिसिन के एसोसिएट प्रोफेसर बाबाक रजानी ने कहा, प्लैक के मूल में कई मृत कोशिकाएं इसे अत्यधिक अस्थिर बनाती हैं और फटने का खतरा होता है। जैसे रक्त प्लैक से बाहर बहता है तो इस पर बहुत अधिक तनाव डालता है। विशेष रूप से उच्चताप के संदर्भ में। यह स्थिति दिल के दौरे का कारण बनती है।

यह साफ है कि उच्च प्रोटीन आहार वजन घटाने में मददगार तो होता है, लेकिन पशुओं पर किए गए अध्ययनों में इस आहार और दिल से जुड़ी समस्याओं क बीच गहरा रिश्ता पाया गया है।
www.myupchar.com से जुड़ीं डॉ. मेधावी अग्रवाल के अनुसार, हार्ट अटैक का सबसे पहला संकेत होता है छाती में दर्द। यदि ऐसा बार-बार होता है तो अपने खानपान पर ध्यान दें। महिलाओं, बूढ़े लोगों और डायबिटीज के मरीजों को अपना विशेष ख्याल रखना चाहिए, क्योंकि हो सकता है कि उनमें इसके संकेत नजर न आएं।

अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

स्वास्थ्य आलेख www.myUpchar.com द्वारा लिखे गए हैं
 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here