Indian Farmer – भारतीय किसान

0
34

भारतीय किसान

गाँव भारत का दिल है और किसान भारत की जान |अर्थात भारत के शरीर का दिल गाँव है और भारतीय किसान इसमे बसने वाले प्राण |यदि किसी शरीर से प्राण निकाल दिये जाए तो शायद किसी भी शरीर का अस्तित्व संभव नहीं | किसान की भूमिका प्रत्येक देश की आर्थिक और राजनैतिक क्षेत्र में बहुत महत्वपूर्ण होती है | भारतीय किसान अधिक परिश्रमशील और प्र्यत्न्शील है |भारतीय किसान अपने तन की चिंता न करते हुए, सर्दी-गर्मी सभी ऋतुओ में कठोर परिश्रम से अन्न उपजाता है | वह स्वय भूखा रेहता है,परंतु दूसरों को अनाज देकर उनकी भूख शांत करता है |

       भारतीय किसान बहुत ही कठोर परिश्रम करता है | यधपी भारतीय किसान की देश के आर्थिक और राज़्नेतिक क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका है , तब भी किसान की हालत दयनीय है |वह आज भी बड़े बड़े जमींदारो की मुट्ठी में जकड़ा हुआ है |भारतीय किसान ऋण में पेदा होता है, जन्म भर कर्ज देता है और ऋण में ही मर जाता है |धन के अभाव में भारतीय किसान अच्छे बीज , खाद का प्रयोग नहीं कर पाता है |

       अज्ञानता का रोग भारतीय किसानो में महामारी की तरह फैला हुआ है |शिक्षा के अभाव में भारतीय किसान अच्छे और वेज्ञानिक खाद बीज और कृषि यंत्र के प्रयोग से वंचित रह जाता है | भारत में हर रोज किसान उधार के दबाब में आकार आतंहत्या कर रहे है , जो की सरकार के लिए एक अहम समस्या बन गयी है |सरकार द्वारा किसानो की हालत सुधारने हेतु अनेक ठोस कदम उठे जा रहे है |शिक्षा के अनेक केंद्र खोले गए है | अनेक रोजगार के कार्यक्र्म चलाये गए है जिससे की बेरोजगारी की समस्या दूर हो सके | बेंकों द्वारा कम बायज पर ऋण दिया जा रहा है खेती करने के लिए | भारत सरकार इस ओर सक्रिय योगदान दे रही है |  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here