Keep these precautions while applying sanitizer to avoid corona virus

0
44


कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे से बचने के लिए आजकल सैनिटाइजर का इस्तेमाल अधिक किया जा रहा है, लेकिन सैनिटाइजर का इस्तेमाल सावधानी से करना चाहिए, अन्यथा इसके घातक परिणाम हो सकते हैं। डॉक्टरों द्वारा इन दिनों हाथों में अल्कोहल युक्त सैनिटाइजर लगाने या बार-बार साबुन से हाथ धोने की सलाह दी जा रही है। दरअसल सैनिटाइजर हाथों पर लगे बैक्टीरिया को खत्म कर देता है, लेकिन बाजारों में मिलने वाले सैनिटाइजर में भी इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि यह अल्कोहल युक्त होना चाहिए।
 
ज्वलनशील होता है सैनिटाइजर
कई विशेषज्ञों के अनुसार हैंड सैनिटाइजर में 75% अल्कोहल पाया जाता है और अल्कोहल जल्दी आग पकड़ लेता है, इसलिए इसका इस्तेमाल सावधानी से करना चाहिए। खासतौर पर महिलाओं को किचन में चूल्हे पर खाना पकाने का काम होता है, इसलिए उन्हें सैनिटाइजर लगाकर तुरंत खाना नहीं पकाना चाहिए, नहीं तो हाथ जल सकते हैं। सैनिटाइजर बच्चों की पहुंच से भी दूर रखना चाहिए, क्योंकि मुंह में जाने से यह जहरीला हो सकता है। अधिकतर सैनिटाइजर में पाए जाने वाला आइसोप्रोपिल अल्कोहल शराब में उपयोग होने वाली अल्कोहल से अलग होती है। यदि यह आइसोप्रोपिल अल्कोहल शरीर में चली गई तो इससे नुकसान हो सकता है।

कई प्रकार के सैनिटाइजर में हानिकारक केमिकल पाए जाते हैं, इसलिए हमेशा खाना खाने से पहले इसके इस्तेमाल के बाद हाथ जरूर धोना चाहिए।
जब भी सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर रहे हो तो हाथों को कुछ देर के लिए आंखों से दूर रखें।
सैनिटाइजर का बहुत अधिक इस्तेमाल करना भी नुकसानदायक हो सकता है। साबुन से हाथ धोना काफी अच्छा विकल्प है।
सैनिटाइजर में ट्राइक्लोसान नाम का भी एक कैमिकल होता है, जिसे हाथ की त्वचा सोख लेती है। इसका अधिक उपयोग करने पर यह हाथ की मांसपेशियों को नुकसान पहुंचा सकता है।
सैनिटाइजर में एक विषैला तत्व बेंजाल्कोनियम क्लोराइड भी होता है, जो कीटाणुओं को कम करता है, लेकिन साथ ही हमारी त्वचा के लिए नुकसानदेह होता। इसके अत्यधिक उपयोग से त्वचा में जलन और खुजली जैसी परेशानी हो सकती है।
सैनिटाइजर में खुशबू के लिए फैथलेट्स नामक रसायन का इस्तेमाल किया जाता है, इसकी मात्रा कुछ सैनिटाइजर में ज़्यादा होती है। अत्यधिक खुशबू वाले सैनिटाइजर लीवर, किडनी, फेफड़े तथा प्रजनन तंत्र के लिए हानिकारक होते हैं।
कुछ शोध में यह खुलासा भी हुआ है कि सैनिटाइजर का अत्यधिक उपयोग करने से शरीर की इम्यूनिटी पर भी नकारात्मक असर पड़ता है।
घर पर ऐसे बना सकते हैं सैनिटाइजर
www.myupchar.com के अनुसार, इन दिनों बाजार में सैनिटाइजर मिलने में भी कई जगह दिक्कत आ रही है। ऐसे में कुछ रसायन यदि उपलब्ध हो जाएं तो घर पर भी सैनिटाइजर तैयार किया जा सकता है। हैंड सैनिटाइजर बनाने के लिए आपको रबिंग एल्कॉहल, वेजिटेबल ग्लीसरीन, एलोवेरा जैल, दालचीनी एसेंशियल ऑयल और टी-ट्री एसेंशियल ऑयल की जरूरत होती है। रबिंग एल्कॉहल के अंदर वेजिटेबल ग्लीसरीन, एलोवेरा जैल, दालचीनी एसेंशियल ऑयल, ड्रॉप्स टी-ट्री एसेंशियल ऑयल मिला दें। इसके बाद इस मिश्रण को बोतल में भर लें। हैंड सैनिटाइजर बनकर तैयार है। इसे दिन में पांच से छह बार अवश्य उपयोग करना चाहिए।
 
अधिक जानकारी के लिए देखें : https://www.myupchar.com/disease/covid-19/right-way-to-wash-your-hands-to-avoid-corona-virus-infection
स्वास्थ्य आलेख www.myUpchar.com द्वारा लिखे गए हैं, जो सेहत संबंधी भरोसेमंद जानकारी प्रदान करने वाला देश का सबसे बड़ा स्रोत है। 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here