Kerela Budget 2020: Govt Focus On Higher Education And Tourism – केरल बजट: भारत के विकास दर से ज्यादा केरल की GDP, इंडस्ट्रियल सेक्टर में सबसे अधिक ग्रोथ

0
31


आपको बता दें कि पिछले वर्ष में केरल की जीडीपी 7.3 फीसदी थी। मतलब केरल में विकास का पहिया आगे बढ़ रहा है।

नई दिल्ली। देश का बजट पेश होने के बाद आज केरल के वित्त मंत्री थॉमस इसाक विधानसभा में साल 2020-21 के लिए बजट पेश कर रहे हैं। केरल बजट से पहले कल यहां का इकोनॉमिक सर्वे जारी किया गया था। जिसमें केरल की GDP 7.5 फीसदी आंकी गई जो पूरे देश की जीडीपी से अधिक है। हालांकि खेती के मोर्चे पर थोड़ी गिरावट दर्ज की गई है। आपको बता दें कि पिछले वर्ष में केरल की जीडीपी 7.3 फीसदी थी। मतलब केरल में विकास का पहिया आगे बढ़ रहा है।

पर्यटन और उच्च शिक्षा पर जोर

केरल सरकार ने केरल में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए 323 करोड़ रुपए का आवंटन किया है। वही उच्च शिक्षा के लिए सरकार की तरफ से 483 करोड़ का फंड आवंटित किया गया है। सरकार को फोकस प्रदेश में पर्यटन और उच्च शिक्षा को बढावा देना है। शिक्षा के लिए 493 करोड़ के फंड का इस्तेमाल सरकार कॉलेज के प्रयोगशाला के विस्तार पर करेगी।

केंद्रीय बजट की आलोचना

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने शनिवार को केंद्रीय बजट की आलोचना करते हुए कहा कि यह न तो देश की अर्थव्यवस्था को मजबूती में सहायक होगा और न ही सामाजिक सुरक्षा और विकास सुनिश्चित करेगा। विजयन ने कहा कि लोकसभा में केंद्री वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पेश आम बजट में दक्षिणी राज्य की सभी वैध जरूरतों की अनदेखी की गई है। जबकि राज्य सरकार ने अपनी लंबित चली आ रही मांगों के संबंध में एक विस्तृत ज्ञापन सौंपा था ।दूसरी ओर केरल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मुल्लापल्ली रामचंद्रन ने आरोप लगाया कि बजट में गरीबों और सामान्य लोगों की पूरी तरह से अनदेखी की गयी है जबकि इसमें कारपोरेट जगत के हितों की रक्षा की गयी है ।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here