Life imprisonment to Serial Killer in 19th murder case

0
1


मैंगलूरु। कुख्यात सीरियल किलर ‘साइनाइड मोहन’ को एक अदालत ने 2006 में केरलगोड़ जिले की एक 23 वर्षीय युवती के कत्ल के जुर्म में आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। साइनाइड मोहन के खिलाफ यह सजा 20 में से 19वें मामले में सुनाई गई है।

छठे अतिरिक्त जिला और सत्र न्यायालय के न्यायाधीश सईदुनुन्निसा ने कहा दोषी की यह आजीवन कारावास की सजा अन्य मामलों में कारावास की सजा समाप्त होने के बाद शुरू होगी।

सड़क किनारे नारियल पानी से लदे ठेले पर पड़ी पुलिस की नजर, जब नाबालिग विक्रेता को धरा गया तब हुआ खुलासा

साइनाइड मोहन के खिलाफ हत्या के 20 मामले दर्ज थे। मोहन पर आरोप है कि उसने साइनाइड का इस्तेमाल कर कई महिलाओं के साथ बलात्कार किया और उनकी हत्या की। साइनाइड मोहन को पांच मामलों में मौत की सजा सुनाई जा चुकी है जबकि तीन में आजीवन कारावास की सजा दी गई है। वहीं, दो अन्य मृत्युदंड की सजा को बाद में बदलकर आजीवन कारावास कर दिया गया।

हत्या के अभियुक्त को आजीवन कारावास की सुनाई सजा

इस ताजा मामले की चार्जशीट के मुताबिक कैंपको की एक यूनिट में काम करने के लिए जा रही एक युवती (मृतका) से मोहन की मुलाकात हुई। उससे दोस्ती बढ़ाने और शादी करने का प्रस्ताव देने के बाद 3 जनवरी 2006 को वह उसे मैसूर ले गया और बस अड्डे के नजदीक एक लॉज में रहा।

अन्य सभी मामलों की ही तरह अगली सुबह मोहन ने महिला से अपने सभी गहने हटाने के लिए कहा। इसके बाद दोनों बस स्टैंड पर पहुंचे जहां उसने युवती से एक गोली खाने को कहा, जिसे उसने कॉन्ट्रासेप्टिव (गर्भ रोकने वाली) दवा बताया। हालांकि गोली साइनाइड से लैस थी।

पूर्व मुख्यमंत्री के निजी सचिव के ठिकानों पर आयकर विभाग की छापेमारी में 2000 करोड़ का खुलासा

बाथरूम में दवा खाने के बाद वह युवती गिर गई और अस्पताल ले जाने पर उसे मृत घोषित कर दिया गया। पिछले मामलों की ही तरह इसके बाद मोहन वापस लॉज पहुंचा और युवती के गहने उठाकर जगह खाली करके निकल गया। साइनाइड मोहन को 2009 में बंतवाल से गिरफ्तार किया गया था, जिसके बाद उसने 20 महिलाओं की हत्या करने की बात कबूल की।










LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here