Lovlina Borgohain Pooja Rani Satish Kumar one win away from securing Tokyo Olympic berths

0
41


विश्व चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता लवलिना बोगोर्हेन (69 किग्रा), एशियाई चैंपियनशिप की स्वर्ण पदक विजेता पूजा रानी (75 किग्रा) और राष्ट्रमंडल खेलों के रजत पदक विजेता सतीश कुमार (91 किग्रा) इस वर्ष होने वाले टोक्यो ओलंपिक का टिकट पाने से महज एक कदम दूर हैं। यह तीन मुक्केबाज जॉर्डन के अम्मान में शुरू हो रहे एशिया/ओसनिया ओलंपिक क्वालिफायर में एक जीत हासिल कर ओलंपिक का टिकट हासिल कर सकते हैं। भारत के आठ पुरुष और पांच महिला मुक्केबाज टूर्नामेंट में उतर रहे हैं और इन्हें सेमीफाइनल में पहुंचने पर टोक्यो का टिकट मिल सकता है।

टूर्नामेंट के ड्रॉ के अनुसार छह बार की विश्व चैंपियन एमसी मैरीकॉम (51 किग्रा) और विश्व चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता अमित पंघाल (52 किग्रा) अपनी पहली दो बाउट जीत अगर सेमीफाइनल में पहुंच जाते हैं तो वे भी ओलंपिक के लिए क्वॉलिफाई कर लेंगे। 

अमित पंघाल अपने वर्ग में जहां टॉप सीड हैं जबकि सतीश (91 किग्रा) में चौथे सीड हैं। विश्व चैंपियन मैरीकॉम अपने वर्ग में दूसरी वरीयता प्राप्त खिलाड़ी हैं। इनके अलावा लवलिना और पूजा अपने-अपने वर्गों में क्रमश: दूसरी और चौथी वरीयता प्राप्त खिलाड़ी हैं।

एशियाई ओलंपिक क्वॉलिफायर्स: गौरव और आशीष प्री-क्वार्टर फाइनल में

पुरुषों में विश्व चैंपियनशिप के कांस्य पदक विजेता मनीष कौशिक (63 किग्रा), राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता विकास कृष्णन (69 किग्रा), सचिन कुमार (81 किग्रा) और नमन तंवर (91 किग्रा) को एशियाई क्वालिफायर में अपने ज्यादा से ज्यादा मुकाबले जीत सेमीफाइनल में पहुंचना होगा जिसके बाद ही वह टोक्यो ओलंपिक का टिकट हासिल कर सकते हैं।

एशिया चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता आशीष कुमार (75 किग्रा) और राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता गौरव सोलंकी (57 किग्रा) को ओलंपिक का टिकट हासिल करने के लिए अपने वर्ग में तीन-तीन मुकाबले जीतने होंगे, जबकि विश्व चैंपियनशिप की पूर्व कांस्य पदक विजेता सिमरनजीत कौर (60 किग्रा) और साक्षी (57 किग्रा) को टोक्यो ओलंपिक का टिकट हासिल करने के लिए दो राउंड जीतने होंगे।

साल के अंत तक के लिए स्थागित हो सकते हैं ओलंपिक खेल: जापान मंत्री

मैरीकॉम के सामने सबसे बड़ी चुनौती तीसरी सीड वियतनाम की ताम थी एनगुएन हो सकती हैं, जिनके साथ उनका मुकाबला सेमीफाइनल में हो सकता है। एनगुएन ने 2018 में हुए एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता था।

अमित पंघाल का मुकाबला मंगोलिया के एंखमनादख खारखु और ताजिकिस्तान के शुहरत सबजालेव के बीच बाउट के विजेता से होगा जबकि सेमीफाइनल में पंघल का मुकाबला पिछले वर्ष विश्व चैंपियनशिप के कांस्य पदक विजेता कजाखस्तान के साकेन बिबोसिनोव से हो सकता है। भारत की तरफ से गौरव (57 किग्रा) और आशीष (75 किग्रा) वर्ग में मंगलवार को अपने अभियान की शुरुआत करेंगे।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here