Menopause: Fruits And Vegetables May Helps To Prevent Perimenopause – Menopause: फल और सब्जियां खाने से कम हो सकता है जल्द मेनोपॉज का खतरा

0
21


Menopause: मेनोपॉज एक ऐसी स्थिति है जब एक महिला के पीरियड्स आना बंद हो जाते है। सामान्य ताैर पर 45 से 55 साल की उम्र पार चुकी महिलाओं में मेनोपॉज होता है। लेकिन आजकल की अनहेल्थी लाइफस्टाइल और खानपान की वजह से कम उम्र की महिलाओं में भी यह समस्या देखने का मिल जाती है

Menopause In Hindi: मेनोपॉज एक ऐसी स्थिति है जब एक महिला के पीरियड्स आना बंद हो जाते है। सामान्य ताैर पर 45 से 55 साल की उम्र पार चुकी महिलाओं में मेनोपॉज होता है। लेकिन आजकल की अनहेल्थी लाइफस्टाइल और खानपान की वजह से कम उम्र की महिलाओं में भी यह समस्या देखने का मिल जाती है। मेनोपॉज एक महिला के जीवन में काफी बदलाव लाता है। इसके कारण महिलाओं को वजन बढ़ने, मूड में उतार-चढ़ाव, हार्मोनल इम्बैलेंस और सिरदर्द जैसी समस्याएं होती हैं। ज्यादातर रजोनिवृत्ति की समस्या के लिए हार्मोन के उतार-चढ़ाव (विशेष रूप से एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन में गिरावट) को दोषी ठहराया जाता है। लेकिन हाल की एक अध्ययन में सुझाव दिया गया है कि फलों और सब्जियों से भरपूर एक स्वस्थ आहार, कई रजोनिवृत्ति के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है। यह अध्ययन मेनोपॉज: द जर्नल ऑफ द नॉर्थ अमेरिकन मेनोपॉज सोसाइटी में प्रकाशित हुआ है।

अध्ययन के अनुसार, इसमें जीवनशैली के उन बदलावाें पर ध्यान दिया गया है जाे मेनोपॉज के लक्षणों को रोकने में सहायक हाें। हालांकि, हार्मोन थेरेपी काे रजोनिवृत्ति के लक्षणों कम करने में कारगर माना गया है। इसके बजाय नॉनफार्माकोलॉजिकल उपचार विकल्पों की खोज जारी है, विशेष रूप उन महिलाओं के लिए जो स्वाथ्य कारणों की वजह से हार्मोन थेरेपी नहीं ले सकती हैं।

द नॉर्थ अमेरिकन मेनोपॉज सोसाइटी (एनएएमएस), अमरीका के शोधकर्ता स्टेफनी फॉबैन ने कहा, “यह छोटा-सा अध्ययन मेनोपॉज के लक्षणों पर फल और सब्जी के सेवन के असर के बारे में शुरूआती सबूत देता है।

पिछले अध्ययनों ने सुझाव दिया था कि फलों और मेडिटेरियन डाइट का सेवन रजोनिवृत्ति की शिकायतों में कमी कर सकता है। इसे एक कदम आगे बढ़ाते हुए, नए अध्ययन में पाया गया कि ‘दिन में एक सेब खाने से रजोनिवृत्ति के लक्षणों को दूर रखा जा सकता है।

हालांकि, शोधकर्ताओं ने यह भी कहा कि कई फलों और सब्जियों का सेवन रजोनिवृत्ति के लक्षणों काे बढ़ा सकता है। अध्ययन में सामने आया कि कई अन्य प्रकार के फलों (जैसे खट्टे फल) और सब्जियों का अधिक सेवन मूत्रजननांगी समस्याओं से जुड़ा था।

फौबिन ने कहा कि इस बात काे सब जानते हैं कि फलों और सब्जियों का भरपूर सेवन कई तरह से सेहतमंद होता है। लेकिन मेनोपॉज के लक्षणों को कम करने में यह आहार कितना मददगार है, इसके लिए अभी और शोध करने की जरूरत है।







Show More























LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here