MIT Professor Translates Coronavirus’ Complex Sequences Into Sound – एमआइटी प्रोफेसर ने कोरोना वायरस की जटिल संरचना को संगीत से दिखाया

0
33


कोरोना वायरस को इसका यह नाम इसके चारों ओर निकले हुए मुकुट जैसे प्रोटीन संरचना के कारण मिला है जो उन्हें घेरते हैं।

मैसाचुसेट्स विश्वविद्यालय के एक प्रोफेसर ने अपने हालिया परीक्षण में नोवेल कोरोनवायरस के स्पाइक प्रोटीन को एक पेचीदा संगीत रचना में बदल दिया है। शोधकर्ता को उम्मीद है कि इससे वायरस से लडऩे के नए तरीके विकसित करने में मदद मिल सकती है। दरअसल ये स्पाइक्स प्रोटीन कोरोनावायरस को मानव कोशिकाओं से जुडऩे में सक्षम बनाते हैं। इसके बाद वायरस कोशिकाओं पर हावी हो जाते हैं ताकि वायरस दोहराव हो सकें। वायरस को खत्म करने के लिए इन स्पाइक प्रोटीन को विशेष कुंजी के रूप में देखा जा रहा है। कोरोनावायरस के मामले में स्पाइक प्रोटीन मानव कोशिकाओं के रिसेप्टर प्रोटीनों को बांधने का काम करता है जो इसे एंजियोटेंसिन नामक एंजाइम 2 में परिवर्तित किया जाता है। सभी कोरोना वायरस मानव कोशिकाओं से जुडऩे के लिए स्पाइक प्रोटीन पर निर्भर करते हैं। कोविड-19 की स्पाइक प्रोटीन विशेष रूप से इस काम में माहिर है।

एमआइटी प्रोफेसर ने कोरोना वायरस के जटिल संरचना को संगीत से दिखाया

मिनेसोटा विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने हाल ही में पता लगाया है कि कोरोना वायरस के स्पाइक प्रोटीन में ऐसे गुण हैं जो इसे अन्य कोरोना वायरस की तुलना में मानव रिसेप्टर प्रोटीनों से कम से कम 10 गुना अधिक मजबूती से जोड़ते हैं। कोविड-19 के स्पाइक प्रोटीन में अमीनो एसिड की तीन नाजुक रूप से मुड़ी हुई चेन होती हैं। मार्कस बुहलर पेशे से एक संगीतकार और मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में एक इंजीनियरिंग प्रोफेसर हैं। उन्होंने वायरस की उस जटिल संरचना को संगीत के एक टुकड़े में बदल दिया है।

एमआइटी प्रोफेसर ने कोरोना वायरस के जटिल संरचना को संगीत से दिखाया

बुहलर और उनके सहयोगियों ने हाल ही में वायरस की आनुवंशिक अनुक्रम और एक एल्गोरिद्म का उपयोग करके ध्वनि कोविड-19 बनाने वाले अमीनो एसिड के अनुक्रमों का अनुवाद करने का एक तरीका ईजाद किया जो ध्वनि में अपने अमीनो एसिड और उनकी संरचनाओं और आणविक कंपन का अनुवाद करता है। उन्होंने जापानी वाद्ययंत्र कोटो, घंटियों, बांसुरी और अन्य उपकरणों की विशेषता वाली इस लगभग दो घंटे की रचना को बनाया है जो भ्रामक रूप से शांतिपूर्ण है। बुहलर कहते हैं कि संगीत इस वायरस की केवल एक प्रतिकृति जैसी है। यह मानव कोशिकाओं पर आक्रमण करने के तरीके को समझनेका तरीका भी हो सकता है। उनका मानना है कि प्रोटीन-जनित इस संगीत संरख्ना का उपयोग कोरोना के स्पाइक प्रोटीन की जटिलता की कल्पना करने और उसके वैकल्पिक तरीके खोजने के लिए भी किया जा सकता है।

एमआइटी प्रोफेसर ने कोरोना वायरस के जटिल संरचना को संगीत से दिखाया


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here