Rohingyas Beat Christians, Case Registered Aagainst 59 People – बांग्लादेश: रोहिंग्याओं ने ईसाईयों को घर में घुसकर पीटा, 59 लोगों पर मामले दर्ज

0
24


ख़बर सुनें

ये घटना बांग्लादेश के कॉक्स बाजार के शरणार्थी शिविर की है जहां ज्यादातर रोहिंग्या मुस्लिम रहते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक हमलावरों ने एक पादरी और उनकी 14 साल की लड़की को किडनैप भी कर लिया है।

संस्था ह्यूमन राइट्स वॉच के मुताबिक, हमले में कम से कम 12 रोहिंग्या ईसाई घायल हो गए और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा है। शिविर में ही बनाए गए चर्च और ईसाईयों के स्कूल भी तबाह कर दिए गए हैं।

हमले के बाद पीड़ित परिवारों को संयुक्त राष्ट्र के ट्रांजिट केंद्र में रखा गया है। पुलिस ने 59 हमलावरों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। बांग्लादेश के बेनार न्यूज एजेंसी और रेडियो फ्री एशिया की रिपोर्टों के मुताबिक, ऐसा समझा जा रहा है कि हमलावर अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (एआरएसए) से जुड़े हुए हैं। हालांकि आर्मी के एक प्रतिनिधि ने इन आरोपों को खारिज किया है।

पादरी की हत्या की आशंका

अगवा किए गए पादरी ताहेर की पत्नी रोशिदा ने कहा है कि उन्हें इस बात की आशंका है कि  उनके पति की हत्या कर दी गई है। उन्होंने कहा कि रिश्तेदारों ने उन्हें जानकारी दी है कि बेटी को जबरन इस्लाम कबूल करवाकर शादी भी कर दी गई है। बता दें कि 2017 के बाद से 7 लाख रोहिंग्या मुस्लिम और करीब 1500 ईसाई म्यांमार से भागकर बांग्लादेश में रह रहे हैं।

सार

अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार निगरानी संस्था ने एक रिपोर्ट में कहा है कि बांग्लादेश के शरणार्थी शिविर में कई ईसाईयों को न सिर्फ घरों में घुसकर पीटा गया बल्कि उनके घरों में लूटपाट और तोड़फोड़ भी की गई।

विस्तार

ये घटना बांग्लादेश के कॉक्स बाजार के शरणार्थी शिविर की है जहां ज्यादातर रोहिंग्या मुस्लिम रहते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक हमलावरों ने एक पादरी और उनकी 14 साल की लड़की को किडनैप भी कर लिया है।

संस्था ह्यूमन राइट्स वॉच के मुताबिक, हमले में कम से कम 12 रोहिंग्या ईसाई घायल हो गए और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा है। शिविर में ही बनाए गए चर्च और ईसाईयों के स्कूल भी तबाह कर दिए गए हैं।

हमले के बाद पीड़ित परिवारों को संयुक्त राष्ट्र के ट्रांजिट केंद्र में रखा गया है। पुलिस ने 59 हमलावरों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। बांग्लादेश के बेनार न्यूज एजेंसी और रेडियो फ्री एशिया की रिपोर्टों के मुताबिक, ऐसा समझा जा रहा है कि हमलावर अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (एआरएसए) से जुड़े हुए हैं। हालांकि आर्मी के एक प्रतिनिधि ने इन आरोपों को खारिज किया है।

पादरी की हत्या की आशंका

अगवा किए गए पादरी ताहेर की पत्नी रोशिदा ने कहा है कि उन्हें इस बात की आशंका है कि  उनके पति की हत्या कर दी गई है। उन्होंने कहा कि रिश्तेदारों ने उन्हें जानकारी दी है कि बेटी को जबरन इस्लाम कबूल करवाकर शादी भी कर दी गई है। बता दें कि 2017 के बाद से 7 लाख रोहिंग्या मुस्लिम और करीब 1500 ईसाई म्यांमार से भागकर बांग्लादेश में रह रहे हैं।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here