Ryanair CEO O’Leary Controversial statement, said, Terrorists are generally Muslims

0
8


लंदन। दुनियाभर में आतंकवाद ( Terrorism ) को लेकर एक बहस चल रही है, जिसमें लोग अलग-अलग तरह के विचार रख रहे हैं। लेकिन इसमें जो सबसे कॉमन बात है वह है मुस्लिम आतंकवाद ( Muslim Terrorism )। यानी कि दुनिया में जहां कहीं पर भी कोई बड़ा या छोटा आतंकी हमला ( Terrorist Attack ) हुआ है या हो रहा है उसमें मुस्लिमों संगठन ( Muslim Organization ) या मुस्लिमों के संलिप्तता पाई गई है। ऐसे में दुनियाभर में मुस्लिम आतंकवाद को लेकर भी एक बहस छिड़ी हुई है।

इस बीच रैयानियर एयरलाइंस के सीईओ ( Ryanair CEO Michael O’Leary ) का एक बयान सुर्खियों में आ गया है। दरअसल, उन्हों ने रैयानियर एयरलाइंस के सीईओ माइकल ओ’लियरी ने कहा कि आमतौर पर देखें तो आतंकवादी सामान्यत: एक मुस्लिम होता है।

आतंक पर कबूलनामे के बाद अब इमरान का ‘डैमेज कंट्रोल’, इस्लामोफोबिया दूर करने के लिए खोलेंगे अंग्रेजी चैनल

उन्होंने कहा कि हवाई अड्डों पर मुस्लिम पुरुषों को एक आतंकवादी के तौर पर देखा जाना चाहिए क्योंकि आम तौर पर एक मुस्लिम कट्टर ( Muslim persuasion ) होते हैं। उन्होंने अपने साक्षात्कार में कहा ‘बम धमाके करने वाला कौन हैं?’

बता दें कि रैयानियर के सीईओ माइकल ओ’लियरी ने नस्लवाद ( racism ) पर यह बयान शनिवार को प्रकाशित एक साक्षात्कार में कहा है। एयरलाइन के विवादास्पद मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने ओ’लियरी ने टाइम्स अखबार के साथ साक्षात्कार में हवाई अड्डे की सुरक्षा पर चर्चा करते हुए ये बातें कही।

इस्लामोफोबिया से ग्रसित हैं ओ’लियरी: मुस्लिम कॉउंसिल

रैयानियर ने कहा ‘वे अकेले पुरुष यात्री के रूप में यात्रा करते हैं.. और यदि आप अपने बच्चों व परिवार के साथ यात्रा कर रहे हैं, समझिए की आप जाएंगे.. संभावना है कि वह खुद के साथ उन सभी को उड़ा दे।

ऐसे में आप ये नहीं कह सकते हैं कि ऐसा नस्लवाद की वजह से हुआ है, लेकिन यह आम तौर पर एक मुस्लिम कट्टर पुरुष होगा। उन्होंने कहा कि तीस साल पहले ऐसा आयरिश यानी आयरलैंड में था।

इधर रैयानियर के इस विवादास्पद बयान को लेकर मुस्लिम काउंसिल ऑफ ब्रिटेन के प्रवक्ता ने आरोप लगाया है कि ओ’लियरी इस्लामोफोबिया से ग्रसित हैं। लेबर पार्टी के सांसद खालिद मोहम्मद ने एक अखबार से बातचीत करते हुए कहा कि ओ’लियरी इस तरह का बयान देकर नस्लवाद को बढ़ावा दे रहे हैं।

VIDEO: पेरिस में एंटी-इस्लामोफोबिया रैली, FEMEN कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन

खालिद मोहम्मद ने कहा ‘अगर आप ( रैयानियर ) मुझे मुस्लिम का रंग बता सकते हैं, तो मैं इससे मुझे उनसे कुछ सिखने में बहुत खुशी होगी। आप किसी किताब के कवर पेज से बुक की पहचान नहीं कर सकते हैं।’

उन्होंने कहा कि इस सप्ताह में जर्मनी में एक स्वेत व्यक्ति ने आठ लोगों की हत्या कर दी। ऐसे में किया उसे एक फासिस्ट के तौर पर पहचान करनी चाहिए या ये मान लेना चाहिए कि वह एक कट्टर था? इधर युनाइेड किंगड में एंटी-मुस्लिम हमले की निगरानी करने वाली संस्था ने ओ’लियरी के बयान को घिनौना बताया है।

कौन हैं रैयानियर के सीईओ?

आपको बता दें कि रैयानियर एयरलाइंस के सीईओ माइकल ओ’लियरी अपने विवादित बयानों के लिए जाने जाते हैं। इससे पहले भी वह कई बार इस तरह के विवादित बयान दे चुके हैं।

एक बार उन्होंने कहा था कि जो भी यात्री रैयानियर के विमान में यात्रा करते हैं और यदि उड़ान के दौरान वे टॉयलेट के लिए फ्लायर का इस्तेमाल करते हैं तो उनसे अधिक चार्ज वसूलना चाहिए और जिस यात्री का वजन सामान्य से अधिक हो उनसे भारी टैक्स वसूलना चाहिए।

ब्रिटेन में ‘इस्लामोफोबिया’ की परिभाषा को लेकर बढ़ा विवाद

रैयानियर के सीईओ ओ’लियरी के इस तरह के विवादित बयान के बाद लोगों ने सोशल मीडिया पर काफी नाराजगी जताई थी और एयरलाइन का बहिष्कार करने की मांग करने लगे थे।

इस्लामोफोबिया पर ब्रिटेन में बहस

गौरतलब है कि बीते साल मई में ब्रिटेन में पुलिस प्रमुखों और मुस्लिम समूहों के बीच इस्लामोफोबिया को लेकर टकराव की स्थिति बन गई थी। ब्रिटेन में गैर-मुस्लिम अपराधों के संदर्भ में दोनों पक्ष इस्लामोफोबिया ( इस्लाम विरोधी घृणा ) की परिभाषा को लेकर एक-दूसरे के आमने-सामने आ गए थे।

All Occasion Parliamentary Community की ओर से ब्रिटेन के मुस्लिमों पर आधारित इस्लामोफोबिया को परिभाषित किया गया था, जिसमें कहा गया कि ‘इस्लामोफोबिया की जड़ें जातिवाद में निहित है और यह जातिवाद का एक फैशन है जो मुस्लिम या मुस्लिम प्रदर्शित करने वाले चिन्हों को निशाना बनाता है।’

हालांकि, यूके की नेशनवाइड पुलिस चीफ काउंसिल ( NPCC ) ने एक बयान में चेतावनी देते हुए कहा कि यह परिभाषा शायद और अच्छी तरह से हो सकती है और भ्रम की स्थिति से बहुत दूर भी हो सकती है। वहीं दूसरी तरफ, NPCC के अध्यक्ष मार्टिन हेविट ने स्वीकार किया कि ब्रिटिश मुस्लिमों पर All Occasion Parliamentary Community के द्वारा प्रस्तावित इस्लामोफोबिया की परिभाषा को लेकर कुछ चिंताएं भी हैं।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.








LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here