Ten Years Ago Saved The Bankrupt Company, Now Real Estate Company Made – दस साल पहले दिवालिया हो रही कंपनी को बचाया, अब रियल एस्टेट कंपनी ने सीईओ बनाया

0
29


भारतीय मूल के अमरीकी संदीप मथरानी (Sandeep Mathrani) को ऑफिस शेयरिंग कंपनी वीवर्क का सीईओ नियुक्त किया गया है। वीवर्क स्टार्टअप्स और ऑफिस मुहैया कराती है।

जयपुर.

संदीप मथरानी जानते हैं, किसी कंपनी को संकट से कैसे निकाला जा सकता है। मथरानी को उनकी पूर्व कंपनी जनरल ग्रोथ प्रॉपर्टीज (जीजीपी) में 2011 में उस वक्त जिम्मेदारी मिली थी, जब वह अमरीकी इतिहास के सबसे बड़े रियल एस्टेट संकट से गुजर रही थी। जीजीपी अमरीका में दूसरा सबसे बड़ा शॉपिंग माल समूह है। छह वर्ष बाद मथरानी ने कंपनी के सहयोगी ब्रुकफील्ड प्रॉपर्टी को लगभग 15 अरब डॉलर का कारोबार बेच दिए। इस प्रोजेक्ट ने उन्हें बड़े कॉर्पोरेट बदलाव का नायक बना दिया। अब मुश्किलों में घिरी ‘वीवर्क’ में उनके कौशल की परीक्षा है। वीवर्क ने 57 वर्षीय मथरानी को अगला सीईओ नियुक्त किया है। उनके पास स्टार्टअप्स के साथ काम करने का भी बड़ा अनुभव है। एडम न्यूमैन ने 2010 में वीवर्क को शुरू किया था। पिछले कुछ वर्षों में वीवर्क का खर्च, उसके राजस्व से ज्यादा बढ़ गया।

देशी उत्पादों को बढ़ावा देकर कंपनी बचाई
रियल एस्टेट में उनका प्रवेश भी दिलचस्प था, जब उन्होंने एक 55 हजार डॉलर में एक अपार्टमेंट खरीदा और 75 हजार डॉलर में बेच दिया। इस 20 हजार डॉलर की कमाई से उत्साहित मथरानी ने ये एक अच्छा व्यवसाय है। 2002 में मथरानी न्यूयॉर्क में रियल एस्टेट के सबसे बड़े समूह वोरनाडो से जुड़े और 2010 में जीजीपी (जनरल ग्रोथ प्रॉपर्टीज) के साथ आए और कंपनी को दिवालिया होने से बचाया। वे जीजीपी में उस वक्त जुड़े जब खुदरा उद्योग संकट का सामना कर रहा था और अमेजन जैसी ऑनलाइन रिटेलर कंपनी का उदय हो रहा था। तब मथरानी ने अपने मॉल में देशी ब्रांड्स पर फोकस किया।

विशेष : साल 2019 में ऑफिस शेयरिंग कंपनी वीवर्क का प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) आया था, जिसके बाद कंपनी की वैल्यूएशन 3,38,400 करोड़ रुपए से गिरकर 57,600 करोड़ रुपए हो गई थी।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here