Tendulkar Told Jaffer Is The Biggest Ambassador Of Cricket – सचिन तेंदुलकर ने वसीम जाफर को बताया क्रिकेट का सबसे बड़ा एंबेस्डर

0
50


Wasim Jaffer ने हाल ही में क्रिकेट को अलविदा कहा है। उनकी तारीफ करते हुए Sachin Tendulkar ने कहा कि वह शांत रहकर दबाव में रन बनाते रहते थे।

नई दिल्ली : प्रथम श्रेणी क्रिकेट में अविश्वसनीय रिकॉर्ड रखने वाले 42 साल के वसीम जाफर (Wasim Jaffer) ने हाल ही में क्रिकेट को अलविदा कहा है। उनके संन्यास पर एक मीडिया से बात करते हुए सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने वसीम जाफर को महान बल्लेबाज और क्रिकेट का सबसे बड़ा एंबेसडर बताया।

बांग्लादेशी क्रिकेटर सौम्य सरकार संकट में, तीन साल की सजा हो सकती है

शानदार बल्लेबाज हैं जाफर

सचिन तेंदुलकर ने कहा कि वसीम जाफर ने शानदार बल्लेबाज हैं। उन्होंने विश्व स्तरीय तेज गेंदबाजों के सामने बेहतरीन प्रदर्शन किया है। दक्षिण अफ्रीका दौरे पर केपटाउन टेस्‍ट में वसीम जाफर के लगाए शतक को याद करते हुए उन्हांने कहा कि वह उनका बेहतरीन प्रदर्शन था। बता दें कि वसीम जाफर भारत के इकलौते ऐसे बल्‍लेबाज हैं, जिन्होंने दक्षिण अफ्रीका में दोहरा शतक लगाया है। 2003 से अब तक यह रिकॉर्ड बरकरार है।

वसीम ने कभी रक्षात्मक बल्लेबाजी नहीं की

इसी तरह पाकिस्‍तान के खिलाफ कोलकाता टेस्‍ट में लगाए उनके दोहरे शतक को याद करते हुए सचिन ने कहा कि वह उस मैच में लाजवाब थे। वह ऐसे बल्‍लेबाज हैं, जो आक्रमण करके खेलते थे। वह कभी रक्षात्‍मक खिलाड़ी नहीं रहे। सचिन ने आगे कहा कि जाफर ऐसे बल्‍लेबाज थे, जो जब आक्रमण कर रहे होते थे, तब भी विपक्षी टीम को यह अहसास नही होता था कि उन पर अटैक किया जा रहा है। जब नजर स्‍कोर बोर्ड पर जाती थी, तभी पता चलता था कि जाफर हमलावर हैं। वह ऐसे बल्लेबाज थे, जिनका विकेट लेना किसी भी टीम के लिए बड़ा विकेट होता था।

कोरोना वायरस का असर, भारतीय दौरे पर हाथ नहीं मिलाएंगे दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी

काफी कब बोलते थे जाफर

सचिन तेंदुलकर ने कहा कि वसीम जाफर का मुंबई क्रिकेट में उनका अविश्वसनीय योगदान है। प्रथम श्रेणी क्रिकेट में तो उन्हें आउट करना बेहद मुश्किल होता था। वह लंबे समय तक पिच पर बने रहते थे और अपनी एकाग्रता को बनाए रखते थे। वह ऐसे खिलाड़ी थे, जो हमेशा विरोधी टीम के लिए बड़ा खतरा बनते थे। अगर उन्‍हें जल्‍दी आउट नहीं किया गया तो फिर विपक्षी टीम को लंबे समय तक क्षेत्ररक्षण करने के लिए तैयार करना पड़ता था। वह काफी कम बोलने वाले खिलाड़ी थे और शांत रह कर दबाव में भी रन बनाते रहते थे।








LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here