These 5 white foods can cause weight gain and diabetes know what to eat instead

0
43


 

जाने-अनजाने रोजाना डाइट में ऐसी सफेद चीजों का सेवन किया जाता है जो कि स्वास्थ्य के लिए अच्छी नहीं होती। ये सफेद चीजें रिफाइंड, प्रोसेस्ड होती हैं और इनमें पोषक तत्वों की कमी होती है। आहार से प्रोसेस्ड व्हाइट फूड्स को हटाकर वजन कम करने और ब्लड शुगर कंट्रोल करने में मदद मिल सकती है। अधिकांश सफेद रंग के खाद्य पदार्थ अस्वास्थकर हैं, क्योंकि बहुत ज्यादा प्रोसेस किए गए हैं और रंगीन खाद्य पदार्थों की तुलना में ज्यादा कार्ब्स और कम पोषक तत्व होते हैं। यहां जानिए ऐसे 5 व्हाइट फूड्स जिन्हें खाने से बचना चाहिए और जानिए इनके विकल्प के रूप में क्या खाना सेहतमंद होगा।

सफेद ब्रेड : मैदा से बनी चीजें खाने से बचना चाहिए। जब गेहूं के आटे को रिफाइंड किया जाता है तो इस प्रक्रिया में गेहूं से फाइबर, विटामिन, मिनरल और गुड फैट अलग हो जाते हैं। www.myupchar.com से जुड़ीं डॉ. मेधावी अग्रवाल का कहना है कि डायबिटीज के मरीजों को पेस्ट्रीज, केक खाने से बचना चाहिए। इसमें कार्ब्स ज्यादा हो जाते हैं और पोषक तत्व जैसे फाइबर, प्रोटीन की कमी रहते हैं। रिसर्च में यह भी सामने आया है कि सफेद ब्रेड ज्यादा खाने से वजन बढ़ता है, क्योंकि इसकी न्यूट्रीशनल वैल्यू कम हो जाती है। इसकी बजाए साबुत अनाज से बनी ब्रेड खाएं। इस ब्रेड में ज्यादा न्यूट्रीशनल वैल्यू होती है। इसके अलावा, पूरे अनाज की ब्रेड खाने से वजन बढ़ने की आशंका नहीं रहती, जो कि सफेद ब्रेड के खाने से होती है।

सफेद पास्ता : सफेद पास्ता सफेद ब्रेड के समान है, यह रिफाइंड आटे से बना है, जिसमें कम पोषक तत्व होते हैं। हालांकि, सफेद ब्रेड की तरह सफेद पास्ता में वजन बढ़ाने की प्रवृत्ति नहीं होती, बशर्ते इसे खाने के साथ-साथ अन्य पौष्टिक आहार भी लें। इसलिए पोषण बढ़ाने के लिए, साबुत अनाज से बना पास्ता चुनें। साबुत अनाज के पास्ता में आमतौर पर अधिक फाइबर होते हैं, जिसे खाकर आप फुलर और अधिक संतुष्ट महसूस कर सकते हैं। अतिरिक्त फाइबर भी ब्लड शुगर कंट्रोल  को सपोर्ट करते हुए, आपके शरीर के कार्ब्स के पाचन को धीमा करने में मदद कर सकता है।

सफेद चावल : सफेद ब्रेड और पास्ता की तरह, सफेद चावल रिफाइंड अनाज की श्रेणी में आते हैं। सफेद चावल स्वाभाविक रूप से खराब या अस्वास्थ्यकर भोजन नहीं है, लेकिन इसमें कैलोरी और कार्ब्स के अलावा पोषण शामिल नहीं हैं। फाइबर और प्रोटीन की अनुपस्थिति भी वजन बढ़ाने या ब्लड शुगर के असंतुलन का कारण बनती है। इसका सबसे अच्छा विकल्प है ब्राउन राइस। यह सफेद चावल की तुलना में फाइबर, विटामिन और मिनरल्स से भरपूर है। शोध से पता चला है कि सफेद चावल  की तुलना में ब्राउन राइस ब्लड शुगर को बहुत कम सीमा तक प्रभावित करता है।

सफेद चीनी : चीनी एक कार्बोहाइड्रेट है, जो ग्लूकोज फ्रक्टोज और ग्लेक्टोज की तरह की होती है। इसमें विटामिन या मिनरल्स नहीं होते। बल्कि जो अधिक चीनी खाते हैं, उनमें दिल की बीमारियां और कैंसर होने की आशंका बढ़ जाती है। अगर मीठा खाना भी है तो अधिक पौष्टिक विकल्प के लिए ऐसे खाद्य पदार्थ चुनें, जिनमें स्वाभाविक रूप से चीनी होती है जैसे फल। फलों में सरल शर्करा होती है जो रासायनिक रूप से जोड़े गए शर्करा के समान होती है। हालांकि, वे विटामिन, मिनरल्स, फाइबर और एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होते हैं।

सफेद नमक : नमक बिना यूं तो किसी भी खाने में स्वाद नहीं आता है और स्वास्थ्य के लिए जरूरी है, लेकिन इसका ज्यादा सेवन हानिकारक हो सकता है। चीनी की तरह सफेद नमक नुकसान पहुंचा सकता है। www.myupchar.com से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, अगर ज्यादा प्रोसेस्ड किए खाद्य पदार्थ का सेवन करते हैं या बहुत अधिक खाते हैं तो शरीर में नमक और कैलोरी की मात्रा बढ़ जाती है। अधिक पोषक तत्वों से भरपूर जड़ी-बूटियों और मसालों का उपयोग करके खाने के स्वाद से समझौता किए बिना नमक में कटौती करने का एक शानदार तरीका है।

अधिक जानकारी के लिए देखें:https://www.myupchar.com/disease/diabetes/what-to-eat-and-what-not-to-in-diabetes-in-hindi

स्वास्थ्य आलेख www.myUpchar.com द्वारा लिखे गए हैं


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here