This Device Can Generate Electricity From Air, All You Need To Know – हवा से बिजली पैदा करेगी यह छोटी-सी डिवाइस, मोबाइल को मिलेगी चार्जिंग से छुट्टी

0
8


air-gen
– फोटो : University of Amherst/Yao and Lovley labs/Ella Maru Studio

ख़बर सुनें

ऊर्जा को लेकर हमेशा खो होती रही है। ऊर्जा के मामले में यह कोशिश रहती है कि कार्बन उत्सर्जन ना हो और बिजली पैदा भी हो जाए। इसी कड़ी में यूनिवर्सिटी ऑफ मैसाचुसेट्स एमहर्स्ट के वैज्ञानिकों ने एक ऐसी डिवाइस तैयार की है जो हवा से बिजली बना सकती है।

खास बात यह है कि यह डिवाइस हवा में मौजूद नमी को बिजली में बदली सकती है। इस डिवाइस को एयर जेनरेटर कहा जा रहा है। इस जेनरेटर में 10 माइक्रोन से भी पतले इलेक्ट्रोड्स लगे हैं। ये इलेक्ट्रोड्स वातावरण में मौजूद पानी को सोंखते हैं। इसके बाद इलेक्ट्रोड में मौजूद प्रोटीन पानी के साथ प्रतिक्रिया करता है और फिर बिजली पैदा होती है।

हवा से बिजली बनाने वाली यह डिवाइस 0.5 वोल्ट्स के करीब बिजली पैदा कर सकती है, हालांकि इसमें अन्य डिवाइस को एक साथ कनेक्ट करके ज्यादा बिजली भी पैदा की जा सकती है। इस डिवाइस को तैयार करने के बाद वैज्ञानिक अब इसी तरह की कमर्शियल डिवाइस तैयार करने में लगे हैं। 

साथ ही इस तकनीक का इस्तेमाल स्मार्टवॉच और स्मार्टफोन में करने की भी प्लानिंग चल रही है। इस डिवाइस का फायदा यह होगा कि चार्जेबल डिवाइस को चार्ज करने की समस्या ही खत्म हो जाएगी। इसका सबसे ज्यादा फायदा वियरेबल इंडस्ट्री को होगा।

सार

  • हवा में मौजूद नमी को होगा इस्तेमाल
  • प्रोटीन इलेक्ट्रोड्स पैदा करेंगे बिजली
  • 0.5 वॉट तक पैदा की जा सकेगी बिजली

विस्तार

ऊर्जा को लेकर हमेशा खो होती रही है। ऊर्जा के मामले में यह कोशिश रहती है कि कार्बन उत्सर्जन ना हो और बिजली पैदा भी हो जाए। इसी कड़ी में यूनिवर्सिटी ऑफ मैसाचुसेट्स एमहर्स्ट के वैज्ञानिकों ने एक ऐसी डिवाइस तैयार की है जो हवा से बिजली बना सकती है।

खास बात यह है कि यह डिवाइस हवा में मौजूद नमी को बिजली में बदली सकती है। इस डिवाइस को एयर जेनरेटर कहा जा रहा है। इस जेनरेटर में 10 माइक्रोन से भी पतले इलेक्ट्रोड्स लगे हैं। ये इलेक्ट्रोड्स वातावरण में मौजूद पानी को सोंखते हैं। इसके बाद इलेक्ट्रोड में मौजूद प्रोटीन पानी के साथ प्रतिक्रिया करता है और फिर बिजली पैदा होती है।

हवा से बिजली बनाने वाली यह डिवाइस 0.5 वोल्ट्स के करीब बिजली पैदा कर सकती है, हालांकि इसमें अन्य डिवाइस को एक साथ कनेक्ट करके ज्यादा बिजली भी पैदा की जा सकती है। इस डिवाइस को तैयार करने के बाद वैज्ञानिक अब इसी तरह की कमर्शियल डिवाइस तैयार करने में लगे हैं। 

साथ ही इस तकनीक का इस्तेमाल स्मार्टवॉच और स्मार्टफोन में करने की भी प्लानिंग चल रही है। इस डिवाइस का फायदा यह होगा कि चार्जेबल डिवाइस को चार्ज करने की समस्या ही खत्म हो जाएगी। इसका सबसे ज्यादा फायदा वियरेबल इंडस्ट्री को होगा।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here