Two more Indians confirmed to have been infected with the Corona virus on a cruise off the coast of Japan

0
36


जापान तट पर अलग खड़े किए गए एक क्रूज जहाज पर दो और भारतीयों में कोरोना वायरस की पुष्टि के साथ जहाज पर इस विषाणु से संक्रमित भारतीय नागरिकों की संख्या बढ़ कर छह हो गई है। सोमवार को एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई। भारतीय दूतावास ने एक बयान में कहा कि 17 फरवरी को 99 नए मामलों के सामने आने के साथ डायमंड प्रिंसेस जहाज पर इस वायरस से संक्रमित लोगों की कुल संख्या बढ़ कर 454 हो गई है।

बयान में कहा गया है कि इसमें भारतीय चालक दल के दो सदस्य भी शामिल हैं जिन्हें आवश्यक उपचार एवं पृथक रखे जाने के लिए मेडिकल सुविधा केंद्र में भेजा गया है। जिन भारतीयों के इस वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है उनकी संख्या अब छह हो गई है। इससे पहले भारतीय दूतावास ने यहां कहा कि क्रूज जहाज पर जिन चार भारतीयों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी, उनकी हालत स्थिर है और उनके स्वास्थ्य में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है।

दूतावास ने कहा कि वह जहाज पर सवार सभी भारतीयों के स्वास्थ्य एवं कल्याण के लिए जापान सरकार और जहाज प्रबंधन कंपनी के साथ समन्वय कर रहा है। बयान में कहा गया है कि दूतावास जहाज पर सवार भारतीय नागरिकों से निरंतर संपर्क में है। वे इस तरह की स्थिति में जन सुरक्षा चिंताओं को समझते हैं। 

जहाज पर सवार 3711 लोगों में कुल 138 भारतीय हैं। यह जहाज इस महीने की शुरूआत में जापान तट पर पहुंचा था। हांगकांग में उतारे गए एक यात्री में कोरोना वायरस की पुष्टि होने के बाद इस जहाज को जापान तट पर पृथक खड़ा कर दिया गया। दूतावास ने कहा कि वह पृथक रखे जाने की अवधि समाप्त होने के शीघ्र बाद जहाज से सभी भारतीयों को निकालने के लिए कोशिशें कर रहा है। वह जापान सरकार और जहाज प्रबंधन कंपनी से इसके तौर तरीकों पर चर्चा कर रहा है। 

अमेरिका ने सोमवार को अपने 340 नागरिकों को जहाज से निकाल लिया। समाचार एजेंसी एएफपी की एक खबर के मुताबिक जापान स्थित अमेरिकी दूतावास ने इस बात की पुष्टि की है कि जहाज से उतारे गए उसके नागरिकों को लेकर दो विमानों ने जापान से उड़ान भरी है। विमान पर सवार लोगों को अमेरिका में और 14 दिन पृथक रखा जाएगा। अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि चीन में इस वायरस के संक्रमण से 105 और लोगों की मौत होने के बाद मृतकों की संख्या बढ़ कर 1770 हो गई है। इससे सर्वाधिक प्रभावित हुबेई प्रांत हुआ है। 

यह भी पढ़ें- 40 साल पहले लिख दी गई थी वुहान में वायरस त्रासदी की दास्तां, पढ़िए पूरी सच्चाई


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here