World cancer day 2020: What causes cancer how it spreads and how to avoid it

0
33


कैंसर का नाम सुनते ही डर लगने लगता है। इस बीमारी को लेकर हर किसी के मन में खौफ होता है। शरीर के किसी अंग में होने वाली कोशिकाओं की अनियंत्रित वृद्धि कैंसर का कारण बनती है। वैसे तो शरीर की यह कोशि‍काएं जरूरत के अनुसार विभाजित हो जाती हैं, लेकिन जब यह लगातार वृद्धि करती हैं तो कैंसर का रूप ले लेती हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो कोशिकाओं का यह असामान्य विकास कैंसर कहलाता है। ये कोशिकाएं जब कई गुना बढ़ जाती हैं तो वे कैंसर कोशिकाओं का एक समूह बन जाती हैं। यह समूह ट्यूमर कहलाता है। आसपास के ऊतकों पर ये ट्यूमर  हमला करते हैं और उन्हें नष्ट करते हैं। कैंसरस (कैंसर वाले) और नॉन कैंसरस (बिना कैंसर वाले) दोनों तरह के ट्यूमर हो सकते हैं। कैंसरस कोशिका एक जगह से शुरू होकर पूरे शरीर में फैल सकती है।

क्यों होता है कैंसर, कैसे होती है शुरुआत
कैंसर पैदा करने वाले पदार्थों को कार्सिनोजेन यानी कैंसरजनक कहा जाता है। यह कार्सिनोजेन कुछ भी हो सकता है जैसे तंबाकू, तंबाकू का धुआं, पर्यावरण, वायरस आदि। कैंसर होने की वजहें देखी जाएं तो ज्यादातर कैंसर दूषित वातावरण के कारण होता है। यह आनुवंशिकी रूप में भी हो सकता है। खराब आहार, खराब प्रतिरक्षा (रोगों से लड़ने की ताकत) के कारण भी हो सकता है।

www.myUpchar.com से जुड़े एम्स के डॉ. उमर अफरोज का कहना है कि कोशिका में आनुवंशिक पदार्थ में बदलाव होने की शुरुआत कैंसर होती है। कोशिका में आनुवंशिक पदार्थ में होने वाले बदलाव अपने आप हो सकते हैं या कुछ तत्वों द्वारा पैदा हो सकते हैं। ये तत्व हैं रसायन, तंबाकू, वायरस, रेडिएशन और सूर्य के प्रकाश में मौजूद पराबैंगनी किरणें। हालांकि, जरूरी नहीं कि सभी कोशिकाएं इन तत्वों से समान रूप से प्रभावित हों। कैंसर एक अंग से दूसरे अंग में फैल सकता है। यह लसीका प्रणाली के जरिए फैल सकता है।

कैंसर कितने प्रकार का होता है
कैंसर कई प्रकार के होते हैं जैसे ब्लड कैंसर, गले का कैंसर, मुंह का कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, सर्वाइकल कैंसर, लंग कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, ब्लैडर कैंसर, लिवर कैंसर, बोन कैंसर, पेट का कैंसर, अग्नाशय का कैंसर, बच्चेदानी का कैंसर आदि।

कैंसर के लक्षण क्या हैं?
कैंसर के लक्षणों को समय पर समझ लिया जाए तो इस बीमारी से बचा जा सकता है। लेकिन जब कैंसर की कोशिकाएं बहुत छोटे रूप में होती हैं तो लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। लेकिन इसके बढ़ने पर आसपास के ऊतकों को प्रभावित कर सकती है। कुछ कैंसर दर्द रहित होते हैं, लेकिन कुछ कैंसर के प्रारंभिक लक्षणों में दर्द हो सकता है। कैंसर होने पर थोड़ा खून आ सकता है। इस ब्लीडिंग का कारण है कि रक्त वाहिकाएं नाजुक होती हैं। कैंसर बढ़ने पर आसपास के ऊतकों पर हमला करता है और इससे रक्त निकलने लगता है। लक्षणों में ब्लड क्लॉट्स, वजन घटना और थकान, लिम्फ नोड्स में सूजन शामिल हैं।

कैंसर से कैसे बचें
कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए कुछ तरीके अपनाना जरूरी है।
www.myUpchar.com के डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि वंशानुगत और कुछ पर्यावरणीय कारकों को नियंत्रित नहीं कर सकते हैं, लेकिन स्वस्थ आहार और स्वस्थ जीवनशैली को अपनाकर इसके खतरे को कम कर सकते हैं। बेहतर होगा कि स्वस्थ आहार खाएं, धूम्रपान बंद करें, ज्यादा धूप में रहने से बचें, नियमित व्यायाम करें, वजन नियंत्रित रखें, शराब का सेवन नहीं करें या कम से कम करें।

अधिक जानकारी के लिए देखें: https://www.myupchar.com/disease/cancer

स्वास्थ्य आलेख www.myUpchar.com द्वारा लिखे गए हैं,


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here