World Cancer Day: Paediatric Cancer, Cause And Symptoms – World Cancer Day: बच्चाें से जुड़े हैं ये चार तरह के कैंसर, ये हैं इनके लक्षण

0
50


World Cancer Day 2020: आज के समय में राेज कई बच्चों काे कैंसर हाेने के मामले सामने आ रहे हैं। बचपन के कैंसर काे पेडियेट्रिक कैंसर भी कहा जाता है। यह शरीर में कहीं भी हो सकता है, जिसमें रक्त, मस्तिष्क, रीढ़ की हड्डी, गुर्दे और अन्य अंग शामिल हैं…

World Cancer Day in Hindi: कैंसर एक ऐसी बीमारी जिसका समय पर इलाज ना होतो यह जानलेवा साबित हो सकती है। आमतौर पर कैंसर का जोखिम युवा और बढ़ी उम्र के लोगों में देखा जाता था। लेकिन अब ये बच्चाें काे भी अपना शिकार बना रहा है। आज के समय में राेज कई बच्चों काे कैंसर हाेने के मामले सामने आ रहे हैं। बचपन के कैंसर काे पेडियेट्रिक कैंसर भी कहा जाता है। यह शरीर में कहीं भी हो सकता है, जिसमें रक्त, मस्तिष्क, रीढ़ की हड्डी, गुर्दे और अन्य अंग शामिल हैं।

क्याें हाेता है कैंसर
कैंसर तब होता है जब शरीर में असामान्य कोशिकाएं नियंत्रण से बाहर हो जाती हैं। ये कोशिकाएं एक द्रव्यमान बनाती हैं जिसे ट्यूमर कहा जाता है जो सामान्य या कैंसर हो सकता है। एक कैंसरयुक्त ट्यूमर शरीर के अन्य भागों में बढ़ सकता है और फैल सकता है। एक सामन्य ट्यूमर बढ़ सकता है लेकिन शरीर के दूर के हिस्सों में नहीं फैलेगा।

बच्चों में अधिकांश कैंसर के कारण अज्ञात हैं। इनहेरिट म्यूटेशन बच्चों में हाेन वाले सभी कैंसराें में लगभग 5 प्रतिशत तक जिम्मेदार है। बच्चों में विकसित होने वाले सबसे आम प्रकार के कैंसर वयस्कों में देखे जाने वाले कैंसर से अलग हाेते हैं। अाइए जानते हैं कि बच्चाें में आमताैर पर किस तरह के कैंसर के विकसित होने का खतरा रहता है।

बच्चों में सबसे अधिक बार होने वाले कैंसर के प्रकार हैं: ल्यूकेमिया, मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के ट्यूमर, न्यूरोब्लास्टोमा, विल्म्स ट्यूमर, लिम्फोमा, रिबडोमायोसार्कोमा, रेटिनोब्लास्टोमा और बोन कैंसर। अन्य प्रकार के कैंसर बच्चों में दुर्लभ हैं। नीचे जाने बचपन में होने वाले शीर्ष चार कैंसर और उनसे जुड़े लक्षण :-

ल्यूकेमिया ( Leukemia )
ल्यूकेमिया अस्थि मज्जा और रक्त का कैंसर हैं। यह बचपन में हाेने वाला सबसे आम कैंसर है। पेडियेट्रिक कैंसर के ताैर पर 29% मामले इसी कैंसर के हाेते हैं। बचपन के कैंसर के मामलों के लिए जिम्मेदार हैं। बाल ल्यूकेमिया सबसे ज्यादा मामले तीव्र लिम्फोसाइटिक ल्यूकेमिया (एएलएल) और तीव्र मायलोइड ल्यूकेमिया (एएमएल) से संबंधित होते हैं।

ल्यूकेमिया के लक्षण: हड्डी और जोड़ों में दर्द, थकान, कमजोरी, पीली त्वचा, रक्तस्राव या चोट लगना, बुखार, वजन कम होना।

ब्रेन एंड स्पाइनल कॉर्ड ट्यूमर ( Brain And Spinal Cord Tumours )
इसे केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (सीएनएस) ट्यूमर भी कहा जाता है, पेडियेट्रिक कैंसर के ताैर पर 26% मामले इस कैंसर के हाेते हैं। बच्चों में अधिकांश ब्रेन ट्यूमर मस्तिष्क के निचले हिस्सों में शुरू होते हैं, जैसे कि सेरिबैलम या मस्तिष्क स्टेम। ब्रेन ट्यूमर की तुलना में रीढ़ की हड्डी के ट्यूमर के मामले कम होते हैं।

ब्रेन ट्यूमर के लक्षण: सिरदर्द, मतली, उल्टी, धुंधला या दोहरी दृष्टि, चक्कर आना, दौरे, सुनने या बोलने में समस्या, चलने और चीजों का संभालने में में परेशानी।

न्यूरोब्लास्टोमा ( Neuroblastoma )
यह बचपन के कैंसर का लगभग 6% है। यह अपरिपक्व तंत्रिका कोशिकाओं का एक ट्यूमर है, जो शिशुओं और छोटे बच्चों में विकसित होता है। इस प्रकार का कैंसर 10 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों में दुर्लभ है। यह बीमारी अक्सर अधिवृक्क ग्रंथियों में शुरू होती है, जो किडनी के ऊपर स्थित होती हैं और शरीर की एंडोक्राइन (हार्मोनल) प्रणाली का हिस्सा होती हैं।

न्यूरोब्लास्टोमा के लक्षण: चलने की क्षमता, आंखों में बदलाव (आंखों की पलकें, उभार, हड्डी का दर्द) और बुखार।

लिम्फोमा ( Lymphomas )
लिम्फोमास लिम्फोसाइट्स नामक प्रतिरक्षा प्रणाली की कोशिकाओं में शुरू होता है। ये कैंसर ज्यादातर टॉन्सिल या थाइमस जैसे लिम्फ नोड्स या अन्य लिम्फ ऊतकों को प्रभावित करते हैं। वे अस्थि मज्जा और अन्य अंगों को भी प्रभावित कर सकते हैं। लिंफोमा के 2 मुख्य प्रकार हॉजकिन लिंफोमा और गैर-हॉजकिन लिंफोमा हैं।

लिम्फोमा के लक्षण:वजन कम होना,बुखार, पसीना, थकान, त्वचा के नीचे, गर्दन, कांख, या कमर में गांठ।












LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here