World Radio Day 2020 know radio day history Significance meaning and theme

0
17


आज सिर्फ किस डे नहीं, बल्कि आज ऐसा दिन भी है जिससे हमारी बचपन की यादें जुड़ी हुई है। आज ‘वर्ल्ड रेडियो डे’ है। आज स्मार्टफोन का ट्रेंड हो लेकिन रेडियो के प्रति लोगों की दीवानगी आज भी कम नहीं हुई है। आइए, जानते हैं आज के दिन से जुड़ी खास बातें- 

‘वर्ल्ड रेडियो डे’ का क्या है इतिहास 
यूनेस्को के कार्यकारी बोर्ड ने जनरल कॉन्फ्रेंस को विश्व रेडियो दिवस की घोषणा करने की सिफारिश की।2011 में, यूनेस्को ने एक व्यापक परामर्श प्रक्रिया की और यह स्पेन द्वारा भी प्रस्तावित है।एकेडेमिया एस्पानोला डी ला रेडियो के प्रोजेक्ट लीडर को कई हितधारकों से समर्थन प्राप्त हुआ, जिसमें प्रमुख अंतरराष्ट्रीय ब्रॉडकास्टर और ब्रॉडकास्टिंग यूनियन और एसोसिएशन शामिल हैं।1946 में, आखिरकार, संयुक्त राष्ट्र रेडियो ने पहला कॉल साइन ट्रांसमिट किया।यूनेस्को के 36वें सत्र ने 13 फरवरी को विश्व रेडियो दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की।संयुक्त राष्ट्र महासभा ने औपचारिक रूप से 14 जनवरी 2013 को यूनेस्को के विश्व रेडियो दिवस की घोषणा का समर्थन किया। संयुक्त राष्ट्र महासभा के 67वें सत्र में 13 फरवरी को विश्व रेडियो दिवस के रूप में घोषित करने के लिए एक संकल्प अपनाया गया और इसी प्रकार 13 फरवरी को हर साल विश्व रेडियो दिवस मनाया जाने लगा।

क्या है इस दिन का महत्व 
विश्व रेडियो दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य जनता और मीडिया के बीच रेडियो के महत्व को बढ़ाने के लिए जागरूकता फैलाना है।यह निर्णयकर्ताओं को रेडियो के माध्यम से सूचनाओं की स्थापना और जानकारी प्रदान करने, नेटवर्किंग बढ़ाने और प्रसारकों के बीच एक प्रकार का अंतर्राष्ट्रीय सहयोग प्रदान करने के लिए भी प्रोत्साहित करता है।

क्या है इस साल की थीम 
विश्व रेडियो दिवस 2020 का विषय ‘रेडियो और विविधता’ (Radio and Diversity) है। इस बार का थीम विविधता और बहुभाषावाद पर केंद्रित है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि रेडियो सबसे सुलभ मीडिया है। इसे दुनिया के किसी भी जगह से सुना जा सकता है।जो लोग सही से पढ़ना लिखना नहीं जानते हैं, रेडियो के जरिए जानकारी प्राप्त कर लेते हैं।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here