Yashasvi Jaiswal May Left Many Indian Batsmen Behind In U19 World Cup – अंडर-19 विश्व कप में यशस्वी कई भारतीय बल्लेबाजों को छोड़ सकते हैं पीछे, शिखर का रिकॉर्ड होगी चुनौती

0
23


U19 WC में शिखर धवन ने अब तक सबसे ज्यादा रन बनाए हैं। उन्होंने 2004 के अंडर 19 विश्व कप में कुल 505 रन बनाए थे।

नई दिल्ली : अंडर-19 क्रिकेट विश्व कप 2020 (U19 World cup 2020) के फाइनल में टीम इंडिया जगह बना चुकी है। भारत ने लगातार चौथी बार विश्व कप के फाइनल में जगह बनाई है। इस विश्व कप में भारत की ओर से यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) ने शानदार बल्लेबाजी की है। वह पांच मैच में 312 रन बना चुके हैं और अभी एक पारी खेलनी बाकी है। इस टूर्नामेंट में वह सबसे ज्यादा रन बनाने वाले भारतीय बल्लेबाज हैं। ऐसे में इसकी बहुत उम्मीद है कि वह अंडर-19 विश्व कप में कई भारतीय खिलाड़ियों को पीछे छोड़ेंगे, लेकिन शिखर धवन का रिकॉर्ड उनके सामने चुनौती बनकर खड़ा है। यशस्वी के लिए उन्हें पीछे छोड़ना मुश्किल लगता है।

गांगुली गए इग्लैंड दौरे पर, ईसीबी और सीए के साथ हो सकती है 4 देशों की सीरीज पर चर्चा

शिखर धवन का रिकॉर्ड तोड़ना मुश्किल

सेमीफाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ शतक लगाने वाले यशस्वी जायसवाल पर हर भारतीय प्रशंसक की नजर है। उनके पास पांच भारतीय बल्लेबाजों को पीछे छोड़ने की चुनौती है। वह जैसा प्रदर्शन कर हैं, ऐसे में लगता है कि वह चार भारतीय बल्लेबाजों को पीछे छोड़कर अंडर 19 विश्व कप में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में दूसरे स्थान पर आ सकते हैं, लेकिन उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती शिखर धवन को पीछे छोड़ने की है, जो मुश्किल लगती है। शिखर धवन 2004 में भारत की अंडर 19 टीम की तरफ से विश्व कप में खेले थे। उस साल उन्होंने टूर्नामेंट में कुल 505 रन बनाए थे। यशस्वी अब भी उनसे 193 रन पीछे हैं और फाइनल में वह इतनी बड़ी पारी खेल सकें, यह बेहद मुश्किल लगता है।

इंग्लैंड के आलराउंडर लियाम प्लंकेट खेल सकते हैं अमरीका से क्रिकेट, चल रही है बातचीत

ये हैं यशस्वी से आगे

इस टूर्नामेंट में शिखर धवन के बाद दूसरे स्थान पर शुभमान गिल हैं। उन्होंने 2018 में 372 रन बनाए थे, जबकि तीसरे स्थान पर काबिज सरफराज खान ने 2016 में 355 रन बनाए थे। इनके अलावा चौथे स्थान पर टीम इंडिया के दीवार -चेतेश्वर पुजारा हैं। उन्होंने 2006 में इस टूर्नामेंट में 349 रन बनाए थे, जबकि पांचवें स्थान पर रवनीत सिंह रिक्की हैं, जिन्होंने 2000 में 340 रन बनाए थे। इसके बाद यशस्वी जयसवाल का स्थान आता है, वह फाइनल मैच से पहले तक इस टूर्नामेंट में 312 रन बना चुके हैं। यानी अगर वह फाइनल में 60 से अधिक रन बनाते हैं तो वह शिखर धवन को छोड़कर बाकी सारे बल्लेबाजों को पीछे छोड़ सकते हैं, जो उनके फॉर्म को देखते हुए ज्यादा मुश्किल नहीं लगता, लेकिन धवन को पीछे छोड़ने के लिए उन्हें 193 रन की मैराथन पारी खेलनी होगी। अब देखना है कि यशस्वी फाइनल में क्या कमाल करते हैं।












LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here