Yogo To Boost Immunity And Weight Loss Fast – Yoga Benefits: इम्यूनिटी बढ़ाने और मोटापा घटाने के लिए काफी हैं ये 3 योगासन

0
65


Yoga Benefits: कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता और बढ़ता कमर का घेरा आपकी सेहत के लिए संक्रमण, बीपी, डायबिटीज व हार्ट डिजीज जैसी कई समस्याओं का कारण बन सकता है। इसलिए हमेशा सेहतमंद रहने के लिए जरूरी है कि इम्यूनिटी को मजबूत और मोटापे को दूर रखा जाए…

Yoga Benefits In Hindi: कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता और बढ़ता कमर का घेरा आपकी सेहत के लिए संक्रमण, बीपी, डायबिटीज व हार्ट डिजीज जैसी कई समस्याओं का कारण बन सकता है। इसलिए हमेशा सेहतमंद रहने के लिए जरूरी है कि इम्यूनिटी को मजबूत और मोटापे को दूर रखा जाए। आइए जानते हैं ऐसे कुछ खास योगसनों के बारे में जो इम्यूनिटी बढ़ाने और मोटापा घटाने में काफी असरदार हैं:-

शलभासन
ऐसे करें : पेट के बल लेटें और हथेलियां जांघों के नीचे रखें। ठोडी को जमीन से लगाएं और धीरे-धीरे पैरों को ऊपर उठाएं।घुटनों को मुड़ने दें। दोनों पैरों को जितना ऊपर ला सकते हैं, लाएं। कुछ सेकंड इस स्थिति में रुकें। धीरे-धीरे पूर्वावस्था में आएं। 30-30 सेकंड के 5 राउंड करें। आंखें बंद और एकाग्रता पीठ व पेट पर हो।

ये न करें : पीठ या कमर में अधिक दर्द हो, तो एक पैर से भी इसे किया जा सकता है। हर्निया व अपेंडिक्स के मरीज इसे न करें।
फायदे : यह जोड़ों के दर्द के अलावा पाचनशक्ति बढ़ाता है और एसिडिटी की समस्या से भी निजात दिलाता है।

शशांकासन
ऐसे करें : इसे करने के लिए वज्रासन मुद्रा में बैठ जाएं और आंख बंद करें। सांस लेते हुए अपने हाथों को ऊपर उठाएं। अब धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए आगे की ओर झुकें और हाथों को स्ट्रेच करते हुए जमीन पर छुएं।
ये न करें : पेप्टिक अल्सर से पीडि़त लोग और गर्भवती महिलाएं इसे न करें। इसके अलावा अगर घुटने में दर्द, पीठदर्द, हाई बीपी और आर्थराइटिस के मरीज हैं तो वज्रासन में न बैठें।
फायदे : यह आसन स्फूर्ति लाने के साथ स्लिम बनाता है। यह पेट की मांसपेशी को टोन करता है। इसके अलावा यह शरीर का रक्तसंचार बढ़ाकर पेट व लिवर की कार्यक्षमता बढ़ाता है।

धनुरासन
ऐसे करें : पेट के बल लेटें। दोनों पैरों को घुटने से मोड़ लें। दोनों हाथों से दोनों पैरों को टखने के पास से पकड़ लें और धीरे-धीरे शरीर को ऊपर की ओर खींचें। हाथ एकदम खिंचे होने चाहिए। कुछ सेकंड इस मुद्रा में रुकें। ध्यान रखें कि शरीर आसानी से जितना मुड़ सके उतना ही मोड़ें। जल्दबाजी न करें।
ये न करें : पेटदर्द, पीठदर्द, गर्दनदर्द और घुटने के दर्द में यह आसन न करें।
फायदे : यह शरीर को लचीला बनाकर रक्तसंचार बेहतर करता है। सांस संबंधी समस्याओं जैसे अस्थमा और ब्रॉन्काइटिस में भी ये योगासन फायदेमंद है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।







Show More






















LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here