You Tube Huge Changes In Android App Numbers Will Now Not Show In Millions It Will Show In Lakh – यूट्यूब ने अपने एंड्रॉयड ऐप में किया बड़ा बदलाव, मिलियंस में नहीं अब लाखों में दिखेंगी संख्याएं

0
52


ख़बर सुनें

दुनिया में हो रहे दिन प्रतिदिन बदलाव को देखते हुए वीडियो शेयरिंग कंपनी यूट्यूब में भी अपने एंड्राइड ऐप में कुछ बदलाव किए हैं। भारतीय उपभोक्ताओं को लुभाने के लिए यूट्यूब ने अपने एंड्राइड ऐप में वीडियो के देखे जाने वालों की गिनती को अब मिलियन और बिलियन से हटाकर लाख और करोड़ में दिखाना शुरू कर दिया है। हालांकि मिलियन और बिलियन के आदी हो चुके भारतीयों को यूट्यूब का यह नया बदलाव बिल्कुल भी गले नहीं उतर रहा है और वह सोशल मीडिया पर लगातार इसकी बुराई कर रहे हैं।

यूट्यूब के दुनियाभर में लगभग 200 करोड़ उपभोक्ता हैं, उनमें से लगभग 26 करोड़ पचास लाख उपभोक्ता अकेले भारत में पाए जाते हैं। एक बड़ी संख्या को उनकी ही क्षेत्रीय भाषा में लुभाने के लिए यूट्यूब ने यह बड़ा कदम उठाया है। हालांकि बिलियन और मिलियन से लाख और करोड़ में हुआ यह बदलाव अभी सभी भारतीयों को दिखाई देना शुरू नहीं हुआ है। यूट्यूब ने बहुत छोटे पैमाने पर यह प्रयोग कुछ मुट्ठी भर एंड्राइड ऐपधारियों के ऊपर करके देखा है। इस प्रयोग के अंतर्गत किसी भी वीडियो के देखने वालों की संख्या ही नहीं, बल्कि किसी यूट्यूब चैनल के सब्सक्राइबर्स की संख्या को भी लाख और करोड़ में ही दिखाया जाएगा। अगर यह प्रयोग सफल रहता है तो यूट्यूब इसे सभी प्लेटफार्म के लिए लागू कर सकता है।


 

जैसे ही इस बदलाव की खबर फैली, वैसे ही सोशल मीडिया पर लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया देना शुरू कर दिया। जिन लोगों के एंड्राइड ऐप पर यह बदलाव हुए हैं, उन्होंने अपने फोन से स्क्रीनशॉट लेकर फेसबुक, इंस्टाग्राम और टि्वटर पर साझा करना शुरू कर दिया। ज्यादातर लोगों ने इस बदलाव को बहुत ही खराब बताया। उनका मानना है कि वे अब मिलियन और बिलियन में गिनती करने के आदी हो गए हैं इसलिए लाख और करोड़ में किसी भी संख्या को गिनना हजम नहीं होता।

‘रावण’ के लिए अरविंद त्रिवेदी नहीं अमरीश पुरी थे पहली पसंद, 33 साल पहले इस वजह से लिया था ये फैसला

दुनिया में हो रहे दिन प्रतिदिन बदलाव को देखते हुए वीडियो शेयरिंग कंपनी यूट्यूब में भी अपने एंड्राइड ऐप में कुछ बदलाव किए हैं। भारतीय उपभोक्ताओं को लुभाने के लिए यूट्यूब ने अपने एंड्राइड ऐप में वीडियो के देखे जाने वालों की गिनती को अब मिलियन और बिलियन से हटाकर लाख और करोड़ में दिखाना शुरू कर दिया है। हालांकि मिलियन और बिलियन के आदी हो चुके भारतीयों को यूट्यूब का यह नया बदलाव बिल्कुल भी गले नहीं उतर रहा है और वह सोशल मीडिया पर लगातार इसकी बुराई कर रहे हैं।

यूट्यूब के दुनियाभर में लगभग 200 करोड़ उपभोक्ता हैं, उनमें से लगभग 26 करोड़ पचास लाख उपभोक्ता अकेले भारत में पाए जाते हैं। एक बड़ी संख्या को उनकी ही क्षेत्रीय भाषा में लुभाने के लिए यूट्यूब ने यह बड़ा कदम उठाया है। हालांकि बिलियन और मिलियन से लाख और करोड़ में हुआ यह बदलाव अभी सभी भारतीयों को दिखाई देना शुरू नहीं हुआ है। यूट्यूब ने बहुत छोटे पैमाने पर यह प्रयोग कुछ मुट्ठी भर एंड्राइड ऐपधारियों के ऊपर करके देखा है। इस प्रयोग के अंतर्गत किसी भी वीडियो के देखने वालों की संख्या ही नहीं, बल्कि किसी यूट्यूब चैनल के सब्सक्राइबर्स की संख्या को भी लाख और करोड़ में ही दिखाया जाएगा। अगर यह प्रयोग सफल रहता है तो यूट्यूब इसे सभी प्लेटफार्म के लिए लागू कर सकता है।


 

जैसे ही इस बदलाव की खबर फैली, वैसे ही सोशल मीडिया पर लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया देना शुरू कर दिया। जिन लोगों के एंड्राइड ऐप पर यह बदलाव हुए हैं, उन्होंने अपने फोन से स्क्रीनशॉट लेकर फेसबुक, इंस्टाग्राम और टि्वटर पर साझा करना शुरू कर दिया। ज्यादातर लोगों ने इस बदलाव को बहुत ही खराब बताया। उनका मानना है कि वे अब मिलियन और बिलियन में गिनती करने के आदी हो गए हैं इसलिए लाख और करोड़ में किसी भी संख्या को गिनना हजम नहीं होता।

‘रावण’ के लिए अरविंद त्रिवेदी नहीं अमरीश पुरी थे पहली पसंद, 33 साल पहले इस वजह से लिया था ये फैसला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here